Home Featured जिला उद्योग नव प्रवर्तन योजना को लेकर की गई बैठक
January 9, 2021

जिला उद्योग नव प्रवर्तन योजना को लेकर की गई बैठक

दरभंगा: कोविड-19 से सुरक्षा व बचाव को लेकर किए गए लॉक डाउन के दौरान अन्य राज्यों से बिहार वापस लौटने वाले कुशल प्रवासी कामगारों का समूह बनाकर रोजगार उपलब्ध कराने हेतु बिहार सरकार द्वारा चलाए जा रहे जिला औद्योगिक नव प्रवर्तन योजना की प्रगति की समीक्षा बैठक जिलाधिकारी, दरभंगा डॉ0 त्यागराजन एसएम की अध्यक्षता में उनके कार्यालय कक्ष में आयोजित की गई।
इस योजना के अंतर्गत मखाना, मिथिला पेंटिंग, फेवर ब्लॉक एवं रेडीमेड गारमेंट्स के लिए 10-10 प्रवासी मजदूरों का समूह एल.एल.पी (लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप) के आधार पर बनाई गई है। इनमें पहला समूह, मिथिला मखाना, बहादुरपुर प्रखंड के मेखना वेदा पंचायत के कक्षाही ग्राम में महेश मुखिया के नेतृत्व में संचालित है, जो दरभंगा के मखाना से तरह-तरह के व्यंजन बनाने का कार्य कर रहा है। दूसरा समूह, पुअर होम चौक, दरभंगा के राजेश कुमार चौधरी के नेतृत्व में मिथिला संचार आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स, दरभंगा (सृजन मिथिला) मिथिला पेंटिंग वाला मास्क बनाने का कार्य कर रहा है। तीसरा समूह, हार्ड मेक फेवर ब्लॉक, मनीगाछी प्रखंड के कायस्थ कवई ग्राम में श्री बिंदेश्वर राम के नेतृत्व में कार्य कर रहा है एवं चौथा समूह, रेडीमेड गारमेंट्स, सदर प्रखंड के सुंदरपुर, बेला में श्री अमित कुमार झा के नेतृत्व में कार्य कर रहा है।
बैठक में कुछ नये उद्यमी जिन्हें प्रधानमंत्री रोजगार गारंटी योजना एवं मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति उद्यमी योजना के तहत ऋण प्रदान किया गया है। उन्हें भी प्रोत्साहित करने हेतु बुलाया गया था।
सिंहवाड़ा के उद्यमी ने बताया कि उनके साथ 13 लोग जुड़े हैं तथा वे फर्नीचर बनाने का कार्य करते हैं और उनके बने हुए सामान की माँग दरभंगा सहित मधुबनी, पटना एवं सीतामढ़ी जिले में भी है। मुख्यमंत्री एस.सी./एस.टी. उद्यमी योजना के लाभार्थी राम बाबू चौपाल ने बताया कि वे नोटबुक एवं कॉपी बनाने का कार्य कर रहे हैं। उन्हें 7.5 लाख रुपये का ऋण प्राप्त हो चुका है, जिससे वह मशीन मंगवाए हैं तथा नोट बुक एवं कॉपियों का निर्माण उनके द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने 120 पेज का एक स्पाईरल नोटबुक जिलाधिकारी को दिखलाया। जिसकी कीमत 40 रूपये बताया गया। उसने कहा कि यदि सरकारी कार्यालयों एवं विद्यालयों में मेरी नोटबुक की आपूर्ति करायी जाए तो यह उद्योग विस्तारित हो सकता है।
बैठक में अमित झा एवं राजेश कुमार चौधरी एवं श्रवण कुमार ने अपनी-अपनी योजना से जिलाधिकारी को अवगत कराया। बैठक में रेडीमेड गारमेंट्स उद्योग की स्थापना के लिए भी सभी उद्यमियों को प्रोत्साहित किया गया।
सैदनगर के उद्यमी ने बताया कि प्रधानमंत्री रोजगार गारंटी योजना के अंतर्गत प्राप्त ऋण से नोयडा से 12.5 लाख रूपये की मखाना प्रोसेसिंग एवं पेकेजिंग मशीन मंगवाया जा रहा है। 02 से 03 दिनों में मशीन आ जाएगा। इसके बाद वे मखाना का प्रोसेसिंग एवं पैकेजिंग
का कार्य प्रारंभ करा देंगे।
जिलाधिकारी ने सभी उद्यमियों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि यदि उन्हें जमीन की आवश्यकता होगी, तो बियाडा की जमीन उपलब्ध कराई जाएगी तथा सरकार की ओर से हर संभव त्वरित सहायता दी जाएगी। सरकार चाहती है कि जिले में बड़े उद्योग की स्थापना की जाए जिसमें अधिक से अधिक लोगों को रोजगार मुहैया कराया जा सके। यदि कोई कार्य योजना हो तो निश्चित रूप से अवगत करावें। जिला प्रशासन एवं बिहार सरकार हर संभव सहायता के लिए तत्पर है।
बैठक में उप विकास आयुक्त तनय सुल्तानिया, उप निदेशक जन सम्पर्क नागेन्द्र कुमार गुप्ता, महाप्रबंधक जिला उद्योग केंद्र, दरभंगा मो0 अंजारूल हसन, एल.डी.एम. एवं नव प्रवर्तन योजना के सभी नेतृत्वकर्त्ता एवं अन्य उद्यमी उपस्थित थे।

Share

Check Also

सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली विषय पर परिचर्चा कार्यक्रम आयोजित।

दरभंगा: जल-जीवन-हरियाली अभियान के अंतर्गत मार्च महीने के प्रथम मंगलवार को कृषि विभाग, बिहा…