Home Featured पंचों के डर से दुष्कर्म पीड़िता ने खाया जहर, डीएमसीएच पहुँचे सीडब्ल्यूसी चेयरमैन ने जाना पीड़िता का हाल।
January 15, 2021

पंचों के डर से दुष्कर्म पीड़िता ने खाया जहर, डीएमसीएच पहुँचे सीडब्ल्यूसी चेयरमैन ने जाना पीड़िता का हाल।

देखिये वीडियो भी।

देखिये वीडियो भी👆

दरभंगा: गुरुवार को कमतौल थानाक्षेत्र की एक दुष्कर्म पीड़िता द्वारा कथित पंचों के दवाब में जहर खा लेने का मामला सामने आया है। फिलहाल उसका इलाज डीएमसीएच में चल रहा है। घटना के कारणों के सम्बंध ने बताया जा रहा है कि पंचायत में नबालिग दुष्कर्म पीड़िता पर केस वापस लेने का दवाब बनाया जा रहा था। साथ ही जान से मारने की धमकी भी दी जा रही थी। इसी से डर कर पीड़िता ने जहर खा लिया।
मामले के सम्बंध में बताया जाता है कि करीब छह माह पूर्व पीड़िता के साथ उसके ही गांव के एक युवक ने दुष्कर्म किया था। इसे लेकर आरोपी के खिलाफ कमतौल थाना में कांड संख्या 208/20 दर्ज कराया गया था। उस केस का मुख्य आरोपी अभी भी जेल में है। इसी मामले को लेकर गुरुवार को मिल्की गाँव में पंचायत रखा गया था। पंचायत के माध्यम से पीड़िता के परिवार के सदस्यों पर जबरन केस वापस लेने का दवाब बनाया जा रहा था ।
पीड़िता की माँ ने बताया कि पंचायत में हुई बातों को बताने हम कमतौल थाना गये थे। वहां केस के आईओ मनोज कुमार को सारी घटना की जानकारी दी। पर आईओ ने कहा कि पंचायत का मामला है, जाकर खुद से सलट लो। इस बीच मेरे घर पर मेरी बेटी अकेली थी। तभी मो0 इस्लाम सेख, मो0 मुस्लिम सेख, मो0 सगीर सेख और मो0 नजिर सेख के साथ और भी लोग मेरे घर पर जाकर मेरी बेटी को जान से मारने की धमकी दिए। साथ ही केस वापिस नही लेने पर जिंदा जला देने की बात कर रहे थे। उन लोगो से डर कर मेरी बेटी ने घबरा कर घर मे रखे खटमल मारने की दवा खा ली। जब हम लोग घर पहुंचे तो वह नीचे जमीन पर पड़ी थी और बार बार उल्टी कर रही थी। उसने पूछने पर सारी बात बतायी। उसे इलाज के लिये कमतौल पीएचसी ले गये जहां डॉक्टर ने डीएमसीएच रेफर कर दिया।
सूचना मिलने पर देर रात डीएमसीएच पहुँचे बाल कल्याण समिति दरभंगा के अध्यक्ष बीरेंद्र कुमार झा ने बताया कि सीडब्ल्यूसी की तरफ से बच्ची को संरक्षण दिया जा रहा है। पीड़ित बच्ची का इलाज डीएमसीएच में चल रहा है। बाल कल्याण समिति अध्यक्ष की उपस्थिति में बेंता थाना ने पीड़िता का बयान दर्ज किया। उन्होंने कहा की पीड़ित बच्ची की जरूरत, संरक्षण और सहायता की जिम्मेवारी बाल कल्याण समिति की है। आरोपियों पर कारवाई के लिये कमतौल थानाध्यक्ष को निर्देश दिया गया। उन्होंने कहा कि चूंकि यह मामला पोक्सो कोर्ट में पहले से चल रहा है। अतः इसकी सूचना बाल कल्याण समिति के द्वारा न्यायालय को दी जाएगी।

Share

Check Also

सांसद ने किया दस दिवसीय संस्कृत संभाषण शिविर का उद्घाटन।

दरभंगा: गुरुवार को दरभंगा के सांसद डॉ0 गोपालजी ठाकुर ने चंद्रधारी मिथिला महाविद्यालय के सं…