Home Featured कोरोना काल के बाद आयोजित संयुक्त प्रवेश परीक्षा में पुनः कायम रहा ओमेगा का दबदबा।
March 9, 2021

कोरोना काल के बाद आयोजित संयुक्त प्रवेश परीक्षा में पुनः कायम रहा ओमेगा का दबदबा।

देखिये वीडियो भी।

देखिये वीडियो भी👆

दरभंगा: कोरोना काल में सभी स्कूल कोचिंग आदि बन्द हो गए थे। छात्रों की पढ़ाई पूरी तरह बाधित हो गयी थी। पर शहर के मिर्जापुर अवस्थित प्रसिद्ध शिक्षण संस्थान ओमेगा स्टडी सेंटर ने ऑनलाइन क्लास की व्यवस्था बेहतर तरीके से जारी रखी थी। लगातार कई वर्षों से कामयाबी का परचम लहरा रहे ओमेगा केलिए कोरोना काल मे भी पढाई बाधित होने के बाबजूद अपने कामयाबी का सिलसिला जारी रखना एक चुनौती था। परंतु चुनौतियों को स्वीकार करते हुए ओमेगा स्टडी सेंटर ने कोरोना काल के बाद आयोजित जेईई मेंस 2021 में भी अपना दबदबा कायम रखा है।
मंगलवार को रिजल्ट आने के बाद ओमेगा स्टडी सेंटर में जश्न का माहौल था। सफल बच्चे एवं अभिभावकों के साथ साथ संस्थान के सदस्यों ने जमकर इस अवसर पर जश्न मनाया।
इस संबंध में जानकारी देते हुए संस्थान के निदेशक सुमन कुमार ठाकुर ने बताया कि संयुक्त प्रवेश परीक्षा मेन के फरवरी सेशन का आधिकारिक रिजल्ट 08 मार्च को वेबसाइट पर जारी किया गया। इसमें ओमेगा स्टडी सेंटर के कुल 48 छात्रों ने सफलता अर्जित की है। इनमें से चार बच्चों ने 98 से अधिक पर्सेंटाइल प्राप्त किया है। यह सफलता पूरे बिहार में किसी संस्थान केलिए एक रिकॉर्ड है।
श्री ठाकुर ने इस सफलता का मुख्य श्रेय संस्थान के एमडी सुमित कुमार चौबे को देते हुए कहा कि उनकी देखरेख में अनुभवी शिक्षकों की मेहनत का ही परिणाम है कि आज ओमेगा ने इतनी बड़ी उपब्धि हासिल की है।
संस्थान के मैनेजिंग डायरेक्टर सुमित कुमार चौबे ने बताया कि बिहार के किसी भी एक कोचिंग संस्थान के रिजल्ट का अनुपात ऐसा नहीं है। श्री चौबे ने बताया कि अभी तक प्राप्त जानकारी के अनुसार संस्थान के कुल 48 बच्चों का चयन एडवांस के लिए हुआ है जिसमें पंकज कुमार – 98.80 %, गोपाल कुमार – 98.40, हर्ष कुमार – 98.30 एवं सफी आजम – 98.11 पर्सेंटाइल सहित हिमांशु कुमार, आशु आनंद, सत्यम कुमार झा, ऋषव, प्रतीक कुमार दास, सोनू कुमार झा, हामिद खान, हिमांशु वर्मा, सनत, आलोक कुमार, रिशु, सौरभ कुमार झा, आशु सहित 35 बच्चे 95 परसेंटाइल से अधिक हासिल कर रिजल्ट का कीर्तिमान बनाया है । संस्थान के 48 बच्चों ने एडवांस के लिए क्वालीफाई किया है। ओमेगा के छात्र-छात्राओं ने जो बेहतर रिजल्ट दिया हैं वो सिर्फ बड़े शहरों में जाने से नहीं मिलता, अपितु बेहतर रिजल्ट के लिए एक ऐसे संस्थान की जरूरत होती है जहां बच्चों का व्यक्तिगत रूप से उत्साहवर्धन किया जाए और श्रेष्ठ एवं अनुभवी शिक्षकों का समुचित मार्गदर्शन मिले। साथ ही संस्थान का उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ बच्चों के भविष्य को बेहतरीन बनाने के साथ साथ संस्थान का माहौल पूर्णत: शिक्षा केलिए समर्पित हो।

Share

Check Also

मृतक के परिजनों को विधायक ने सौंपा चार चार लाख का चेक।

दरभंगा: बेनीपुर के विधायक डॉ विनय कुमार चौधरी ने गुरुवार को बेनीपुर प्रखंड के पोहद्दी गांव…