Home Featured डीएमसीएच के सभी डॉक्टरों को नियमित रूप से पेशेंट विजिट चार्ट भरने का डीडीसी ने दिया निर्देश।
1 week ago

डीएमसीएच के सभी डॉक्टरों को नियमित रूप से पेशेंट विजिट चार्ट भरने का डीडीसी ने दिया निर्देश।

दरभंगा: डेडीकेटेड कोविड हॉस्पिटल, दरभंगा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल के सभागार में डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल की निगरानी एवं अनुश्रवण के लिए प्रतिनियुक्त वरीय प्रभारी सह उप विकास आयुक्त तनय सुल्तानिया की अध्यक्षता में डीएमसीएच के चिकित्सकों के साथ एक समन्वय बैठक आयोजित की गयी।
बैठक में सर्वप्रथम दरभंगा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में ईलाजरत मरीजों के ईलाज के लिए बनाए गए प्रोटोकॉल एवं गंभीर मरीजों की भर्ती के लिए जिन मरीजों की स्थिति में स्थाई सुधार हो गयी है उन्हें डेडीकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर या कोविड केयर सेंटर में स्थानांतरित करने को लेकर विमर्श किया गया।
समीक्षा क्रम में पाया गया कि पालीवार प्रतिनियुक्त चिकित्सकों को मरीजों को देखने के दौरान जो रोगी भ्रमण चार्ट(पेशेंट विजिट चार्ट) भरना है, वह कई चिकित्सकों द्वारा तो भरा जा रहा है, लेकिन कई चिकित्सकों द्वारा पूर्ण रूप से नहीं भरा जा रहा है, जिसके कारण इलाज करने में एवं डिस्चार्ज करने में अगले शिफ्ट के चिकित्सक को परेशानी हो रही है। भ्रमण चार्ट में स्थिर स्थिति या गंभीर स्थिति लिखने पर आईसीयू के लिए निर्णय लेने में सहूलियत होती है।
रोगी भ्रमण चार्ट से मरीजों के ऑक्सीजन फ्लो रेट की स्थिरता, पल्स रेट एवं उनके स्वास्थ्य की जानकारी मिलती रहती है।  जिससे उन मरीजों की जानकारी मिलती है जिनकी स्थिति में सुधार हो रही है तथा जीनका SOP2- 90% से ऊपर रह रहा है। वैसे मरीजों को डेडीकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर या कोविड केयर सेंटर में स्थानांतरित किया जा सके, ताकि कोरोना के गंभीर मरीजों को बेड उपलब्ध हो सके।
बैठक में अच्छी तरह भरे हुए भ्रमण चार्ट सभी को दिखाया गया, और अच्छी तरह रोगी भ्रमण चार्ट भरकर व्हाट्सएप ग्रुप पर साझा करने को कहा गया, ताकि वरीय चिकित्सकों द्वारा मरीजों को शिफ्ट करने के संबंध में निर्णय लिया जा सके।
बैठक में कहा गया कि सभी चिकित्सक आपसी समन्वय बनाकर काम करें और रोगी भ्रमण चार्ट सभी चिकित्सकों द्वारा भरा जाए, ताकि मॉडरेट कोरोना मरीजों को डिस्चार्ज कर गंभीर कोरोना मरीजों को डी.एम.सी.एच में बेड उपलब्ध कराया जा सके।
उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार द्वारा भी कोरोना मरीजों को डिस्चार्ज करने से संबंधित गाइडलाइन जारी किया गया है। जिनमें मॉडरेट कोरोना मरीज जिनका SOP2 – 90% से अधिक है, उन्हें डेडीकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर या कोविड केयर सेंटर में रखने तथा जो माईल्ड कोरोना मरीज हैं, जिनका SOP2 – 94% से अधिक है, उन्हें होम आइसोलेशन में रखने का निर्देश दिया गया है। जिनका SOP2 – 90% से कम हो जाता है, उन्हें ही डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल में रखने का निर्देश दिया गया है।
बैठक में सहायक समाहर्त्ता अभिषेक पलासिया, दरभंगा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. केएन मिश्रा, प्रभारी अधीक्षक डॉ बालेश्वर सागर, मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डॉ यूसी झा एवं संबंधित पदाधिकारी/ चिकित्सक उपस्थित थे।

 

Share

Check Also

कीमतों पर नियंत्रण के लिए बना नियंत्रण कक्ष

दरभंगा: जिलाधिकारी डॉ त्यागराजन एसएम के द्वारा जिले के व्यवसायी संघ एवं थोक विक्रेताओं के …