Home Featured हिंदी विभाग द्वारा आयोजित स्नातक प्रथम खंड प्रतिष्ठा के केंद्रीयकृत ऑनलाइन कक्षा का हुआ समापन।
2 weeks ago

हिंदी विभाग द्वारा आयोजित स्नातक प्रथम खंड प्रतिष्ठा के केंद्रीयकृत ऑनलाइन कक्षा का हुआ समापन।

दरभंगा: ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के पीजी हिंदी विभाग के तत्वावधान में आयोजित स्नातक प्रथम खंड हिंदी प्रतिष्ठा (सत्र- 2020-23) के एक माह तक चली केंद्रीयकृत ऑनलाइन कक्षा का समापन गुरुवार को हुआ। कक्षा संचालन के बाद समापन सत्र शुरू हुआ। विवि हिंदी विभाग के अध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र साह ने कुलपति डॉ. सुरेंद्र प्रताप सिंह, प्रति कुलपति डॉ. डॉली सिन्हा व कुलसचिव डॉ. मुश्ताक अहमद का आभार प्रकट करते हुए जानकारी दी कि कुलपति और प्रति कुलपति को भी इस समापन सत्र में शामिल होना था, लेकिन शिक्षा मंत्री के साथ बैठक होने की वजह से वे इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सके। कुलसचिव भी विवि कार्यों की व्यस्तता की वजह से इस कार्यक्रम में नहीं जुड़ सके, लेकिन इन ऑनलाइन वर्गों के सूत्रधार वे ही रहे हैं। डॉ. साह ने छात्रों को सूचना दी कि एक माह तक चले ऑनलाइन वर्ग के बाद सभी पंजीकृत छात्रों को ऑनलाइन फीडबैक फॉर्म प्रेषित किया जाएगा जिसमें कई प्रकार के कॉलम बने रहेंगे। उन्होंने यह भी बताया कि स्नातक हिंदी प्रतिष्ठा खंड तीन का ऑनलाइन वर्ग 23 जुलाई से शुरू होगा। डॉ. राजेन्द्र साह ने कहा कि वे डिग्री की अंधी दौड़ में न शामिल हों, बल्कि ज्ञान और योग्यता हासिल करें। उन्होंने छात्रों को आश्वस्त किया कि अगर आपके पास ज्ञान, योग्यता और प्रतिभा होगी तो आपकी राह कोई नहीं रोक सकेगा।

विश्वविद्यालय के विकास पदाधिकारी डॉ. केके साहू ने इस उपलक्ष्य में हिंदी विभाग के अध्यक्ष सहित सभी शिक्षकों और छात्रों के प्रति आभार प्रकट किया जिन्होंने कोरोना के इस विषम काल में बहुत बेहतर ढंग से ऑनलाइन कक्षा संचालित की। केंद्रीयकृत ऑनलाइन वर्ग के फायदे गिनाते हुए डॉ. साहू ने बताया कि क्यों केंद्रीयकृत ऑनलाइन वर्ग की जरूरत पड़ी। उन्होंने बताया कि कई कॉलेजों में कई विषयों के शिक्षक नहीं थे। ऐसे में छात्रों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। स्नातक में जनरल स्टडीज भी एक महत्त्वपूर्ण विषय है और महाविद्यालय उस विषय के वर्ग की व्यवस्था नहीं कर पा रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में शिक्षकों और छात्रों के बीच दूरी बढ़ गयी थी, लेकिन केंद्रीयकृत ऑनलाइन वर्ग शुरू होने से यह दूरी समाप्त हो गयी है। 

डॉ. साहू ने गौरव के साथ यह बात कही कि पूरे बिहार में ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय पहला ऐसा विश्वविद्यालय है जिसने केंद्रीयकृत ढंग से स्नातक की ऑनलाइन कक्षा संचालित की। मौके पर बीएमए कॉलेज, बहेड़ी के हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ. उमेश कुमार उत्पल, डॉ. विजय कुमार, डॉ. आनन्द प्रकाश गुप्ता, अखिलेश कुमार, कनीय शोधप्रज्ञ कृष्णा अनुराग, अभिषेक कुमार सिन्हा, धर्मेंद्र दास तथा छात्र उपस्थित थे।

Share

Check Also

19 से 25 मनेगा संस्कृत सप्ताह, पांच विशिष्ट विद्वान होंगे सम्मानित, छात्र भी होंगे पुरस्कृत।

दरभंगा: संस्कृत विश्वविद्यालय में 19 से 25 अगस्त तक संस्कृत सप्ताह का आयोजन होगा। इस दौरान…