Home Featured जल संसाधन मंत्री ने किया कुशेश्वरस्थान एवं आसपास के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा।
2 weeks ago

जल संसाधन मंत्री ने किया कुशेश्वरस्थान एवं आसपास के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा।

दरभंगा: बिहार सरकार के जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने मंगलवार को जिले के बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित कुशेश्वरस्थान व आसपास के बाढ़ प्रभावित इलाकों का बोट से निरीक्षण किया। उन्होंने करीब तीन घंटे तक बोट से विभिन्न इलाकों में घूमकर उन्होंने बाढ़ से घिरे गांवों का हाल जाना। उन्होंने जल संसाधन विभाग की ओर से कमला बलान नदी के दाएं तटबंध के 111.29 किमी पर फुहिया में कराये गये कटाव निरोधी कार्य और कुशेश्वरस्थान में कराये गये बाढ़ संघर्षात्मक कार्यों का भी निरीक्षण किया। उन्होंने कमला बलान के दाएं तटबंध पर कोठराम और बाएं तटबंध पर पुनाछ में हुए कार्यों का भी निरीक्षण किया। जल संसाधन मंत्री ने डीएम डॉ. त्यागराजन एसएम से राहत एवं बचाव कार्यों तथा कम्युनिटी किचन आदि की विस्तार से जानकारी ली और जिला प्रशासन द्वारा प्रभावित इलाकों में नाव से भोजन भेजने की व्यवस्था को सराहनीय बताया।

निरीक्षण के बाद मंत्री ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि कुशेश्वरस्थान और आसपास के बड़े इलाकों में साल के करीब छह महीने बाढ़ का पानी जमा रहता है। इस जगह पर तीन नदियां कमला, करेह और कोसी आकर मिलती हैं। कुशेश्वरस्थान व आसपास के बड़े इलाके को बाढ़ से राहत दिलाना मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की प्राथमिकताओं में शामिल है। गत वर्ष बाढ़ में उन्होंने इस पूरे इलाके का हवाई सर्वेक्षण किया था और इसे बाढ़ से राहत दिलाने की योजना के कार्यान्वयन का निर्देश जल संसाधन विभाग को दिया था। मुख्यमंत्री के निर्देश पर विभाग द्वारा तैयार बागमती बाढ़ प्रबंधन योजना फेज थ्री बी का काम शुरू करा दिया गया है, जिसे सितंबर 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य है। फेज फाइव ए का भी काम कराया जाना है। इससे 3.36 लाख हेक्टेयर क्षेत्र को बाढ़ से राहत मिलेगी। मंत्री ने दर्जिया फुहिया बांध बंध जाने के बाद मत्स्य विभाग, विद्युत विभाग, कृषि विभाग सहित कई अन्य विभागों के साथ बैठक कर यहां की आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ करने की भी बात कही। निरीक्षण के बाद श्री झा व वीआईपी की प्रदेश अध्यक्ष व गौड़ाबौराम विधायक स्वर्णा सिंह सहित कई लोगों ने दिवंगत विधायक शशिभूषण हजारी के निवास पर जाकर श्रद्धांजलि अर्पित की। निरीक्षण के दौरान मंत्री के साथ डीएम डॉ. त्यागराजन एसएम व एनडीआरएफ की टीम के साथ मुख्य अभियंता, बाढ़ नियंत्रण एवं जल नि:स्सरण, जल संसाधन विभाग, समस्तीपुर रामा शंकर द्विवेदी एवं अधीक्षण अभियंता, बाढ़ नियंत्रण अंचल, जल संसाधन विभाग, दरभंगा प्रिय शंकर अप्पू, सहायक समाहर्ता अभिषेक पलासिया, कार्यपालक अभियंता, बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल, झंझारपुर टू शरद कुमार, बिरौल एसडीओ ब्रजकिशोर लाल दास, डीएसपी दिलीप कुमार झा, एनडीआरएफ इंस्पेक्टर विश्व राजीव, रिपु झा आदि थे।

बताते चलें कि बागमती बाढ़ प्रबंधन योजना के फेज थ्री बी और फाइव ए के तहत मुजफ्फरपुर, दरभंगा एवं समस्तीपुर जिले में दो चरणों में कार्य कराया जाना है। इसके प्रथम चरण में फेज थ्री ई के तहत मौजूदा सिरनिया-फुहिया तटबंध का 70.42 किमी की लंबाई में सुदृढ़ीकरण और प्रस्तावित रीच के अंतिम छोर पर फुहिया के निकट तटबंधरहित चार किमी भाग में नये तटबंध के निर्माण के साथ-साथ रूपांकन के अनुसार संरचना निर्माण किया जा रहा है। फेज थ्री ई का कार्य 52 प्रतिशत पूरा हो चुका है। फेज फाइव- ए के तहत बागमती दाएं तटबंध का बेनीबाद से हायाघाट (किमी 89.08 से किमी 110.96) तथा बागमती दाएं तटबंध का बेनीबाद से सोरमघाट के बीच नवनिर्माण और बागमती बाएं तटबंध से खिरोई दायां तटबंध तक 13.54 किमी लंबाई में जैकेंटिंग तटबंध का निर्माण और संरचना निर्माण किया जाना है। इस योजना के कार्यान्वयन से 3.36 लाख हेक्टेयर क्षेत्र को जल प्लावन की स्थिति से राहत मिलेगी।

Share

Check Also

19 से 25 मनेगा संस्कृत सप्ताह, पांच विशिष्ट विद्वान होंगे सम्मानित, छात्र भी होंगे पुरस्कृत।

दरभंगा: संस्कृत विश्वविद्यालय में 19 से 25 अगस्त तक संस्कृत सप्ताह का आयोजन होगा। इस दौरान…