Home Featured शक्तिपीठ के रूप में विख्यात है वाणेश्वरी भगवती, तंत्र साधना केलिए भी आते हैं साधक।
2 weeks ago

शक्तिपीठ के रूप में विख्यात है वाणेश्वरी भगवती, तंत्र साधना केलिए भी आते हैं साधक।

दरभंगा: धर्म एवं संस्कृति की भूमि मिथिला में तंत्र साधना के लिए भी कुछ ऐसे स्थल भी हैं जिनकी सिद्धपीठ के रूप में पहचान है। इसमें मनीगाछी प्रखंड से 4 किलोमीटर दक्षिण भंडारिसम- मकरंदा स्थित वाणेश्वरी भगवती शक्तिपीठ के रूप में विख्यात हैं। मान्यता है कि सच्चे मन से जो इनके दर पर माथा टेकता है वह खाली नहीं लौटता।

गांव की सतह से लगभग 10 फीट की ऊंचाई पर अवस्थित वाणेश्वरी परिसर एक ऐतिहासिक धरोहर है। पुरातात्विक दृष्टि से वाणेश्वरी की प्रतिमा को अप्रतिम मूर्ति स्वत: इसकी प्राचीनता का बोध कराती है।

ऐतिहासिक तथ्यों को समेटी हुई इस स्थान व वाणेश्वरी की मूर्ति की बनावट व पत्थर की पहचान से इसका काल निर्धारण भी संभव है। सालों भर इस जगह पर एक से एक साधक तंत्र साधना के लिए आते रहे हैं। मिथिलांचल के कई गांवों में भगवती वाणेश्वरी की प्रसिद्धि है। वाणेश्वरी को भंडारिसम गांव की लड़की से देवी बनने की कहानी आज भी स्थानीय लोगों की जुवानी बनी हुई है। कहते हैं कि शासक वर्ग के दुराचार व अत्याचार से मर्माहत कवि पं. वाण झा की अति सुंदरी पुत्री वाणेश्वरी के प्रतिरोध में तालाब में कूद पड़ी।

बाद में एक ग्रामीण को स्वप्न हुआ। फिर तालाब से उन्हें निकालकर पहले एक पीपल के पेड़ के नीचे स्थापित कर पूजा-अर्चना शुरू की। बाद में दरभंगा के महाराजा लक्ष्मीश्वर सिंह की पत्नी लक्ष्मीवति ने अपने भाई राय बहादुर श्रीनाथ में एवं देवर महाराज रामेश्वर सिंह के पुत्र होने की याचना की। दोनों को पुत्र प्राप्त होने पर इस स्थान पर महारानी ने एक भव्य मंदिर का निर्माण करा दी।

शिलापट्ट के मुताबिक इसका निर्माण 1912 में कराया गया। ग्रामीण इसे पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करने का प्रयास चल रहा है। शारदीय नवरात्र एवं रामनवमी में यहां धूमधाम से पूजा होती है। रामनवमी में हजारों कांवरिया सिमरिया घाट से गंगाजल लाकर भगवती का जलाभिषेक करते हैं। कन्या व ब्राह्मण भोजन की सिलसिला सालों भर चलता रहता है। लेकिन, नवरात्रा में इसकी अहमियत ज्यादा होती है।

Share

Check Also

शिक्षिकाओं केलिए एकदिवसीय विधिक जागरूकता प्रशिक्षण शिविर का आयोजन।

दरभंगा: नागरिक सेवा और कानूनी सेवा प्राप्त करना सभी नागरिक का संवैधानिक अधिकार है। सभी जरू…