Home Featured मैथिली के लिए विज्ञान प्रसार ने सीएम साइंस कॉलेज से किया करार।
June 1, 2022

मैथिली के लिए विज्ञान प्रसार ने सीएम साइंस कॉलेज से किया करार।

दरभंगा: आम लोगों तक उनकी भाषा में विज्ञान की बातें पहुंचाने के लिए दृढ़ संकल्पित केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने मैथिली में तेज गति से व्यापक काम करने के लिए सीएम साइंस कॉलेज के साथ समझौता किया है। विज्ञान प्रसार के स्कोप के तहत दिल्ली के टेक्नोलॉजी भवन में बुधवार को मैथिली भाषा की कोर कमिटी की बैठक हुई। इस बैठक के बाद विज्ञान प्रसार के निदेशक डॉ नकुल पराशर और सीएम साइंस कॉलेज के प्रधानाचार्य प्रो दिलीप कुमार चौधरी ने एमओयू पर हस्ताक्षर किया। इस समझौता के बाद मैथिली में निरंतर प्रकाशित हो रही पत्रिका विज्ञान रत्नाकर के साथ ही पुस्तक प्रकाशन, ऑडियो-वीडियो निर्माण, मिथिला के हर स्कूल तक मैथिली में विज्ञान के प्रचार-प्रसार को तेज किया जा सकेगा। समझौता पर हस्ताक्षर करने के बाद विज्ञान प्रसार के निदेशक डॉ नकुल पराशर ने कहा कि स्कोप के तहत हम तमाम भारतीय भाषाओं में काम कर रहे हैं। बीते करीब डेढ़ साल से मैथिली में भी कुछ अच्छे काम हो रहे हैं। कोर कमेटी की सहमति से सीएम साइंस कॉलेज के साथ समझौता किया गया है।

Advertisement

सीएम साइंस कॉलेज के प्रधानाचार्य प्रो दिलीप कुमार चौधरी ने कहा कि यह हमारे लिए गौरव की बात है कि केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय की स्वायत्त संस्था विज्ञान प्रसार ने हमें यह महत्वपूर्ण जिम्मेदारी प्रदान की है। यह हमारे कॉलेज के साथ ही संपूर्ण मिथिला के लिए गौरव की बात है। कोर कमेटी की बैठक में दिल्ली विश्वद्यिलय के प्रो इन्द्रकांत सिंह, प्रो रूबी मिश्रा, रांची विश्वविद्यालय के डॉ आनंद कुमार ठाकुर, विज्ञान प्रसार के मानवर्धन कंठ, आलोक कुमार, डॉ प्रकाश झा, सुभाष चंद्र, संजीव सिन्हा, रौशन झा, सीएम साइंस कॉलेज के शिक्षक डॉ सुजीत कुमार चौधरी एवं डॉ सत्येंद्र कुमार झा उपस्थित रहे।

Share

Check Also

सृजन घोटाला और बालिका गृह कांड की जांच की आंच से नीतीश कुमार ने बदला पाला: चिराग।

देखिए वीडियो भी 👆 दरभंगा: सृजन घोटाला और मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड की जांच की आंच…