Home Featured आंदोलन करने पहुंचे एमएसयू के छात्रों की भारी भीड़ को प्रवेश से रोका तो मुख्य द्वार पर ही दे दिया धरना।
2 weeks ago

आंदोलन करने पहुंचे एमएसयू के छात्रों की भारी भीड़ को प्रवेश से रोका तो मुख्य द्वार पर ही दे दिया धरना।

दरभंगा: अपने पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत एमएसयू के छात्र बुधवार को बड़ी संख्या में एलएनएमयू में प्रदर्शन करने पहुंचे। हालांकि छात्रों की बड़ी संख्या को देखते हुए उन्हें विवि के मुख्य प्रवेश द्वार पर ही रोक दिया गया। इसके बाद छात्र वहीं धरने पर बैठ गए।

छात्र नेताओं ने कहा कि तीन साल की डिग्री देने में चार साल, पांच साल लगाना अत्याचार है। लाखों छात्र हर साल इस कुव्यवस्था के शिकार ही रहे हैं। सेशन और डिग्री में लेट की वजह से हजारों छात्र फॉर्म नहीं भर पाते, परीक्षाओं का मौका चूक जाते हैं, कैरियर में पिछड़ जाते हैं। चार लाख छात्रों वाले विवि के 1918 शैक्षणिक पदों में सिर्फ 488 भरे हैं और 1430 (लगभग 60 प्रतिशत) खाली हैं। 41 कॉलेजों में लगभग 30 में स्थायी प्रिंसिपल नहीं हैं और नॉन-टीचिंग में 1099 पद खाली हैं। बिहार के छात्रों ने कभी नहीं मांगा कि कॉलेजों में कैंपस प्लेसमेंट हो। वोकेशनल कोर्स, स्पोर्ट्स, कल्चरल इवेंट, हॉस्टल सुविधा आदि हो जबकि देशभर में छात्रों के लिए ये बेसिक चीजें है।

Advertisement

छात्रों ने कहा कि शिक्षा के लिए चार जिलों की दो करोड़ जनसंख्या विवि पर निर्भर है। छह सांसद और करीब 36 विधायक हैं क्षेत्र में लेकिन कहीं कोई सुगबुहाहट नहीं। हमें पुन: खुद लड़ना होगा। 2017 में लड़कर हमने तीन साल की डिग्री तीन साल में दिलवायी थी। पुन: एकजुट होकर आज हजारों की संख्या में विश्वविद्यालय प्रशासन को छात्रों के अधिकार के प्रति सजग कराया है।

अब एक बार फिर से यहां का सत्र अनियमित हो चुका है। तीन साल में मिलने वाली स्नातक की डिग्री पांच साल में मिलने जा रही है। दो साल का पीजी तीन साल और चार साल में होने जा रहा है। बीएड का सत्र लेट चल रहा है।

डिस्टेंस और लॉ में भी पढ़ाई बंद कर दी गयी है। दो साल से छात्रसंघ का चुनाव नहीं हो रहा है। एकेडमिक कैलेंडर का पालन नहीं किया जाता है। कॉलेज डिपार्टमेंट में शिक्षकों की कमी है। हम इसी का विरोध करने के लिए आये हैं। सभा को पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अविनाश भारद्वाज, गोपाल चौधरी, आदित्य मोहन, बिहार प्रभारी सह जिला परिषद अमित ठाकुर, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष सह जिला परिषद धीरज कुमार झा, ई शरत झा, अमन सक्सेना, उदय नारायण झा, अभिषेक कुमार झा, प्रियरंजन पांडे, कुंदन कुमार, विनीत शेखर, गुलफाम रहमानी आदि ने संबोधित किया। बाद में जिला परिषद सदस्य सागर नवदिया, अध्यक्ष आदित्य मोहन, विवि अध्यक्ष आदित्य मिश्रा व शिवेंद्र वत्स की एएम की विवि प्रशासन से सफल वार्ता हुई। इसमें उन्हें कई मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया गया।

आंदोलन में विद्या भूषण राय, नीरज भरद्वाज, भरत महापात्र, अनीश चौधरी, जय प्रकाश झा, कन्हाई झा कश्यप, राघवेंद्र रमण, मुरारी मिश्रा, कविता मंडल, पल्लवी, सुजाता कामत, मौसम मौथिल, साक्षी पाठक, राजनंदनी, मीनाक्षी, दीपक मिश्रा, सूरज कुमार, शंभु सावन, अर्जुन, धर्मेंद्र यादव आदि थे।

Share

Check Also

पार्षदों के आंदोलन के बाद कचरा उठाव टैक्स में हुआ बदलाव।

दरभंगा: वार्ड पार्षदों के आंदोलन के बाद दरभंगा नगर निगम द्वारा कचरा उठाव टैक्स में बदलाव क…