Home Featured जिला प्रशासन से वार्ता के बाद जवाहर नवोदय विद्यालय के छात्र-छात्राओं की भूख हड़ताल खत्म।
August 5, 2019

जिला प्रशासन से वार्ता के बाद जवाहर नवोदय विद्यालय के छात्र-छात्राओं की भूख हड़ताल खत्म।

दरभंगा: जवाहर नवोदय विद्यालय पचाढ़ी के छात्र-छात्राओं की भूख हड़ताल खत्म हो गई है। जिला प्रशासन के आश्वासन पर सभी छात्र आंदोलन खत्म करके अध्ययन में जुट गए हैं। छात्र-छात्राएं शनिवार की रात से गुणवत्तापूर्ण भोजन देने, स्टाफ नर्स के खिलाफ कार्रवाई करने, विज्ञान शिक्षक की नियुक्ति करने, साफ-सफाई पर ध्यान देने आदि मांगों को लेकर भोजन का बहिष्कार कर भूख हड़ताल पर चले गए थे। हड़ताल की सूचना प्राप्त होते ही डीएम ने बीडीओ को मामले की जांच एवं विद्यार्थियों को समझा बुझाकर भूख हड़ताल समाप्त कराने के लिए भेजा। जूनियर छात्रों ने भूख हड़ताल खत्म कर दिया। लेकिन सीनियर छात्रों ने आंदोलन जारी रखा। जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन एसएम ने बताया कि वहां पदस्थापित एएनएम सुषमा रानी को बदलने एवं उनके विरुद्ध कठोर कार्रवाई करने के नवोदय विद्यालय प्रबंधन पटना संभाग के नियंत्री पदाधिकारी को अनुशंसा भेजी जा रही है। प्राचार्य को मेस में खाने की गुणवत्ता में अपेक्षित सुधार लाने हेतु सख्त निर्देश दिया गया है। कहा कि विद्यालय में विद्यार्थियों के विद्या अर्जन के लिए अनुकूल माहौल बनाए रखना प्राचार्य की सर्वोच्च जवाबदेही है। छात्रों को गुणवत्ता पूर्ण शुद्ध भोजन, चिकित्सा सुविधा आदि उपलब्ध कराना एवं संपूर्ण परिसर में साफ-सफाई रखना विद्यालय प्रबंधन की जवाबदेही है। लेकिन इसके लिए विद्यार्थियों को अपनी पढ़ाई छोड़कर आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ा, जो अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। आगे से ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं हो, प्राचार्य को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है। पंद्रह दिन पर विद्यालय जाकर विद्यार्थियों से वार्ता करेंगे एडीएम :

डीएम ने कहा कि अपर समाहर्ता (विभागीय जांच) वीरेंद्र प्रसाद को निर्देश दिया गया है कि हरेक पंद्रह दिन पर नवोदय विद्यालय में जाकर विद्यार्थियों से वार्ता करेंगे और कोई शिकायत सामने आने पर उनके संज्ञान में लाया जाएगा ताकि इसका त्वरित निराकरण किया जा सके। हड़ताल की सूचना पर सोमवार को अपर समाहर्ता को मामले की जांच करने के लिए भेजा गया था। जांच से यह बात सामने आई है कि नवोदय विद्यालय में पदस्थापित एएनएम सुषमा रानी का व्यवहार छात्र-छात्राओं के साथ ठीक नहीं रहता है। वह बीमार छात्र-छात्राओं को दवा भी ठीक से नहीं देती है। विद्यार्थियों ने इसकी शिकायत विद्यालय प्रबंधन से की थी, लेकिन प्रबंधन ने भी इस पर ध्यान नहीं दिया। इससे पहले बीडीओ महेशचंद्र, प्राचार्य वीरेंद्र कुमार तिवारी, चाइल्ड लाइन निदेशक ललित रंजन दत्त आदि ने भी छात्र-छात्राओं से वार्ता की और उनकी समस्याएं सुनीं। भूख हड़ताल समाप्त होने के बाद विद्यालय प्रशासन ने राहत की सांस ली है।

Share

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

दशम दीक्षांत समारोह में 26 टॉपरों को स्वर्ण पदक से किया गया सम्मानित।

दरभंगा : ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय में आयोजित दशम दीक्षांत समारोह के अवसर पर 26 टॉप…