Home Featured मिथिला की कला और संस्कृति का अनोखा संगम दिखा सखी बहिनपा मिथिलानी समूह के वर्षगांठ समारोह में।
August 24, 2019

मिथिला की कला और संस्कृति का अनोखा संगम दिखा सखी बहिनपा मिथिलानी समूह के वर्षगांठ समारोह में।

देखिये वीडियो भी।

देखिये वीडियो भी👆
दरभंगा: मिथिला-मैथिली को लेकर न जाने कितनी भाषणबाजी बाजी की दुकान खुली, कोई मिथिला का बेटा, तो कोई मिथिला का लाल आदि से स्वयम्भित होकर राजनीतिक सफलता की सीढ़ी पर चढ़ गया। पर खुद के शान शौकत के अलावा मिथिला को भाषण के अलावा कुछ न दिया।
रही बात महिलाओं की, तो बढ़ते जमाने मे भी मिथिला की महिलाएं ज्यादा संकोची और घर परिवार तक मतलब रखने केलिए जानी जाती थी, खासकर मैथिलीभाषी। परंतु पिछले चार सालों में मिथिला की महिलाओं के एक अनोखा प्रयास कर सखी-बहिनपा मिथिलानी समूह ने वास्तव में कुछ अलग कर दिखाने की झलक दिखा दी है। मिथिला की विलुप्त हो रही सांस्कृतिक पहचान को नया जीवन दे रही है।मिथिला की घरेलू महिलाओं को सांस्कृतिक पहचान को जीवंत करने के साथ साथ अपने हुनर को अपनी पहचान बनाने का एक बड़ा प्लेटफार्म दिया है। आरती झा द्वारा संचालित इस ग्रुप में देश विदेश से जुड़ी करीब बीस हजार से अधिक मैथिलीभाषी महिलाएं हैं। आपस मे एक दूसरे का छोटा बड़ा दुख दर्द बांटना, खुशियां बांटना, एक दूसरे की सहायता करना, मिथिला पेंटिंग, मिथिलाक्षर, ब्यूटीशियन, पापड़, आचार आदि का प्रशिक्षण भी देना, यह सब यहां जुड़ी महिलाओं को एक दूसरे से प्राप्त होता है। सामाजिक कार्यों में ये ग्रुप पीछे नही है। बाढ़ जैसी आपदा के दौरान लगातार बीस दिनों तक अपने बदौलत राहत वितरण करती रहीं।
इस समूह का चौथा वर्षगांठ समारोह भी शनिवार को लहेरियासराय स्थित सात फेरे विवाह भवन में आयोजित किया गया। इस आयोजन में बतौर मुख्य अतिथि पहुँची दरभंगा नगर निगम की मेयर वैजंती खेड़िया भी मैथिलानियो का यह समूह देखकर सुखद आश्चर्य का अनुभव किये बिना नही रह सकी। आह्लादित होकर उन्होंने भी अपने शब्दों में जनकर प्रशंसा की और कहा कि महिलाएं जिस तरह घर को संभाल सकती है, शहर को भी संभाल सकती हैं। शहर को साफ एवं स्वस्थ रखने में भी इस समूह से सहायता की उम्मीद है। श्रीमती खेड़िया ने इस समूह के साथ हर प्रकार से हमेशा खुद को रखने की बात भी कही।
वहीं बतौर मुख्य अतिथि पहुंची जिला परिषद उपाध्यक्ष ललिता झा ने तो दो कदम आगे बढ़ कर संस्कृतिक झिझिया नृत्य में समूह की महिलाओं के साथ खुद को भी झूमने से नही रोक पायी।
अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ जब झिझिया नृत्य कार्यक्रम का प्रदर्शन समूह की महिलाओं द्वारा किया जा रहा था तो जिप उपाध्यक्ष को भी इसमे शामिल देख मेयर श्रीमति खेड़िया भी इस नृत्य में खुद को झूमने से नही रोक पायी।
कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्वलन एवं मंगल गीतों के साथ हुआ। तत्पश्चात अथितियों का स्वागत पाग दोपट्टा से करते हुए सम्मान के रूप में मिथिलाक्षर का मोमेंटो भी प्रदान किया गया।
सांस्कृतिक कार्यक्रम में खुशी, गुड़िया, मृगतृष्णा, आदया, आदि की सामूहिक नृत्य ने अदभुत छँटा बिखेरी। वहीं अनुपमा झा आदि के मैथिली गीतों ने सबका मन मोह लिया।
कार्यक्रम के दौरान मन संचालन ममता रानी एवं मधु झा ने किया। वहीं कार्यक्रम के आयोजन में स्नेहा शैलेन्द्र, सुप्रिया शैलेन्द्र, आरती सिंह, कल्पना चौधरी, दीपा झा, सुधा मिश्रा, एडवोकेट मांडवी झा आदि का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

Share

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

तालाबों के अतिक्रमणकारियों के विरुद्ध शुरू हुआ अभियान, हराही पोखर को कराया गया अतिक्रमणमुक्त।

दरभंगा: जिलाधिकारी डाॅ0 त्यागराजन एसएम के निर्देश पर नगर आयुक्त घनश्याम मीणा एवं नगर पुलिस…