Home Featured रिजल्ट देने वाले ही टिक पाएंगे, खराब प्रदर्शन करने वाले अधिकारी को नही ढोएगा विभाग: प्रधान सचिव।
September 6, 2019

रिजल्ट देने वाले ही टिक पाएंगे, खराब प्रदर्शन करने वाले अधिकारी को नही ढोएगा विभाग: प्रधान सचिव।

देखिये बैठक की एक झलक भी👆

दरभंगा: राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह ने दो टूक कहा है कि सरकारी सेवा में रिजल्ट देने वाले एवं विपरीत परिस्थितियों में भी बेहतर प्रदर्शन करने वाले अधिकारी एवं कर्मी ही टिक पाएंगें। नगण्य उपलब्धि वाले कर्मी को किसी भी हालत में ढ़ोया नहीं जाएगा। ऐसे कर्मी को चिन्हित कर उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्त दी जाएगी। यह बातें उन्होंने शुक्रवार को प्रमंडलीय सभाकक्ष में आयोजित राजस्व एवं भूमि सुधार मामलों की प्रगति की समीक्षा बैठक के दौरान कहीं। कहा कि राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग सरकार का एक अत्यंत महत्वपूर्ण विभाग है। यह आम जनता से सीधा सरोकार रखने वाला विभाग है। यह टीम वर्क है। सरकार आम लोगों को सहूलियतें प्रदान कराने को ले निरंतर प्रयत्नशील है। आमलोगों को अंचलों, जिला कार्यालयों के चक्कर नहीं लगाना पड़े, इसलिए कई कार्यों में ऑनलाइन सेवा शुरू की गई है। दाखिल-खारिज, जमाबंदी, लगान रसीद के लिए अब विभाग ऑनलाइन सुविधा दे रही है। इन सुविधाओं का लाभ आम लोगों को त्वरित गति से जबतक नहीं मिलेगा, तबतक इसका उद्देश्य पूरा नहीं होगा। उन्होंने कहा कि राज्य में 3.5 करोड़ जमाबंदी कायम है, सॉफ्टवेयर में जैसे ही कुछ कठिनाई उत्पन्न होती है तो इसके निराकरण को लेकर इसे अपडेट किया जाता हैं। आगे राजस्व विभाग के सभी कार्य ऑनलाइन होंगे। कहा कि बिहार लोक सेवा आयोग से राजस्व सेवा में 122 अधिकारियों ने योगदान किया है। इससे राज्य में राजस्व विभाग के कार्यों के निष्पादन में गति आएगी। कहा कि आइटी का जमाना है, इसलिए कंप्यूटर जानना जरूरी है। कहा कि कनीय एवं वरीय सभी कर्मी को परफॉर्मेंस करना होगा।
समीक्षा में पाया गया कि बड़ी संख्या में म्यूटेशन, लगान, जमाबंदी आदि के एप्लीकेशन कर्मचारियों के लॉगिन में पड़े है। मुख्य सचिव ने इसे अत्यंत गंभीरता से लिया। कहा कि सबसे खराब प्रदर्शन व उपलब्धि वाले कर्मियों को चिन्हित कर उनके विरूद्ध अनिवार्य सेवानिवृत्ति की कार्रवाई की जाएगी। ऐसे कर्मी को किसी भी हालत में ढ़ोया नहीं जाएगा। प्रधान सचिव ने 31 अगस्त तक के लंबित म्यूटेशन वादों का सितंबर के अंत तक निस्तारण करने का लक्ष्य दिया। वहीं, जून माह तक के लंबित म्यूटेशन का शत-प्रतिशत् निष्पादन करने को कहा। उन्होंने डीसीएलआर एवं सीओ को निर्देश दिया कि जो हल्का कर्मचारी कार्य नहीं कर रहा है, उसके विरूद्ध कार्रवाई का प्रस्ताव विभाग में भेजे। कहा कि बाढ़, सुखाड़, आपदा, निर्वाचन कार्यों का बहाना नहीं चलेगा। ऑनलाइन म्यूटेशन में दरभंगा के जाले अंचल की प्रगति प्रमंडल में सबसे कम नौ प्रतिशत पाई गई। हनुमाननगर की उपलब्धि 10, लौकही व जयनगर की उपलब्धि लगभग 11, कुशेश्वरस्थान की उपलब्धि लगभग 12 प्रतिशत पाई गई। प्रधान सचिव के साथ आए पैनल अधिकारियों ने बारी-बारी से दाखिल-खारिज, जमाबंदी, भू-अर्जन आदि के क्रियान्वयन पर विस्तार से प्रकाश डाला।

Share

2 Comments

  1. Pingback: sildenafil

Leave a Reply

Check Also

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने निकाला साइकिल जुलूस।

दरभंगा: पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि व सरकारी कंपनियों के निजीकरण के खिलाफ गु…