Home Featured जुए के अड्डे चलाने वाले गिरोह के मास्टरमाइंड के साथ चार गिरफ्तार।
September 22, 2019

जुए के अड्डे चलाने वाले गिरोह के मास्टरमाइंड के साथ चार गिरफ्तार।

देखिए वीडियो भी।

वीडियो देखने के लिए ऊपर दिए गए फोटो पर क्लिक करें।👆

दरभंगा:जुआ खेलने की लत में बड़े बड़े साम्राज्य चले गए। इतिहास भी गवाह है कि इस लत में कई राजा भी भिखारी बन गए। परंतु आज भी लोग लालच में इस लत के शिकार बने हुए हैं। कानूनन इसे अपराध घोषित किया जा चुका है, पर फिर भी लोग बाज नही आते।
लोगों की इस लत का फायदा उठा कर कुछ लोग इसे व्यवसाय बना लिए हैं और अवैध जुए का अड्डा भी चलाने लगे हैं।
ऐसे ही जुओं के अड्डे जिले के सदर थाना क्षेत्र में विभिन्न जगहों पर एक गिरोह द्वारा चलाने की जानकारी पुलिस को लगातार मिल रही थी। सिटी एसपी योगेंद्र कुमार ने एक विशेष टीम को इस गिरोह को पकड़ने केलिए लगाया हुआ था। अंततः शनिवार की शाम गिरोह का मास्टरमाइंड संतोष कुमार यादव अपने तीन सहयोगियों के साथ गिरफ्तार हो गया।
रविवार को अपने कार्यालय कक्ष में आयोजित प्रेस वार्ता में उक्त संदर्भ में जानकारी देते सिटी एसपी सह प्रभारी एसएसपी योगेंद्र कुमार ने बताया कि जिन चार लोगों की गिरफ्तारी हुई है, उनमे छिपलिया निवासी प्रभु यादव के पुत्र संतोष यादव के साथ बेलायाकूब निवासी रामलखन यादव के पुत्र उमेश यादव तथा भोला शर्मा के पुत्र रोहित शर्मा के अलावे उसी जगह पर शराब का भी सेवन किये कबीरचक निवासी लखन सहनी के पुत्र गोपाल सहनी को गिरफ्तार किया गया है। इनके पास से ताश की पत्ती के अलावा 15550 रुपये बरामद किए गए हैं। संतोष यादव के पास से 1000, उमेश यादव के पास से 14000 तथा रोहित शर्मा के पास से 400 रुपये बरामद हुए हैं। वहीं जमीन से ताश के पत्ते के साथ 150 रुपये बरामद हुए हैं।
सिटी एसपी श्री कुमार ने बताया कि मास्टर माइंड संतोष का सम्बन्ध मिथिलेश बाबा हत्याकांड से जुड़े गैंग से भी है। साथ ही अन्य आपराधिक मामलों में भी संलिप्तता रही है।
श्री कुमार ने बताया कि शराब का सेवन किये धराये गोपाल सहनी पर अलग से भी उत्पाद अधिनियम के तहत केस दर्ज किया जाएगा।

Share

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

बैंक लूटने के इरादे से आये दो अपराधी हथियारों के साथ धराये।

दरभंगा: पुलिस के बारे में कहा जाता है कि अक्सर घटना के बाद पहुंचती है। पर कभी कभी घटना को …