Home Featured शोध में गुणात्मक एवं परिणात्मक डाटा की अहम भूमिका : डॉ महापात्रो।
3 weeks ago

शोध में गुणात्मक एवं परिणात्मक डाटा की अहम भूमिका : डॉ महापात्रो।

दरभंगा : शोध समस्या के निदान के लिए गुणात्मक एवं परिणात्मक डाटा की विस्तृत जानकारी आवश्यक है । क्योंकि एसपीएसएस में डाटा में इंपोर्ट और इंट्री के तरीके अलग हैं। उक्त बातें डॉक्टर संध्या रानी महापात्रो, एन सिन्हा सामाजिक शोध संस्थान, पटना ने कही। डॉ महापात्रो स्थानीय सीएम कॉलेज में तीन दिवसीय कार्यशाला के दूसरे दिन संसाधन पुरुष के रूप में प्रतिभागियों को संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि यदि शोधकर्ता एसपीएसएस का उपयोग करते हैं तो इसकी तकनीक से पूरे तौर पर अवगत होना आवश्यक है। डॉ महापात्रो ने अपने व्याख्यान के माध्यम से इस तकनीक पर विस्तृत प्रकाश डाला । दूसरे सत्र में डॉ अविरल पांडे ने एसपीएसएस के माध्यम से संबंधन पर प्रकाश डाला। उन्होंने सहसंबंधन मैट्रिक्स के द्वारा दो से अधिक घरों के बीच सहसम्बन्धन के महत्व और टी वैल्यु महत्व फार्मूले पर जानकारी साझा की। तीसरे सत्र में डॉ० रीना कुमारी ने रिग्रेशन एनालिसिस पर व्याख्यान दिया। रिग्रेशन के प्रकार को एसपीएस माध्यम से बताया । ज्ञातव्य हो कि स्थानीय सीएम कॉलेज दरभंगा में 24 से 26 सितंबर तक तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन हुआ है जिसमें देश के विभिन्न राज्यों से 40 प्रतिभागी भाग ले रहे हैं। उनमें त्रिपुरा, असम,शिक्क़ीम जैसे पूर्वोत्तर राज्य की भी प्रतिभागी शामिल है। प्रधानाचार्य डॉ० मुश्ताक अहमद ने प्रसन्नता व्यक्त की है की शोध तकनीक पर आधारित यह कार्यशाला शैक्षणिक गुणवत्ता विशेषकर शोध कार्यों के माहौल को साजकार बनाएगा। अर्थशास्त्र विभाग के प्रोफेसर अवनि रंजन सिंह,डॉ० शिप्रा सिन्हा, डॉ आरबी,  नीरज कुमार, डॉ विकास कुमार, डॉ रीना कुमारी, डॉ यादवेन्द्र सिंह आदि पूरे दिन कार्यशाला के प्रतिभागियों को हर प्रकार की सुविधा प्रदान करने हेतु तत्पर थे।

Share

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

जिला मलेरिया पदाधिकारी ने किया हायाघाट स्वास्थ केंद्र का निरीक्षण।

हायाघाट : जिला मलेरिया पदाधिकारी डॉ जय प्रकाश महतो ने शनिवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र…