Home Featured संसद में गूंजी मैथिली, मैथिली में संबोधन करते हुए गोपालजी ने डीडी मैथिली चैनल की उठायी मांग।
3 weeks ago

संसद में गूंजी मैथिली, मैथिली में संबोधन करते हुए गोपालजी ने डीडी मैथिली चैनल की उठायी मांग।

देखिये वीडियो भी।

देखिये वीडियो भी👆
दरभंगा: सोमवार को सदन का शीतकालीन सत्र शुरू होते ही पहले ही दिन मैथिली भाषियों केलिए सुखद एहसास का क्षण आया। दरभंगा के सांसद गोपालजी ठाकुर ने पहलीबार लोकसभा में अपना पूरा संबोधन मैथिली भाषा मे किया।
शीतकालीन सत्र के पहले दिन शून्यकाल के दौरान बोलते हुए वर्षों से करोड़ों मैथिल भाषियों के दूरदर्शन पर मैथिली डीडी चैनल प्रारंभ करने की मांग को उठाया।
श्री ठाकुर ने मैथिली भाषा में ही सदन में संबोधन करते हुए कहा कि मैथिली भाषा को पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 अटल बिहारी वाजपेई ने अष्टम अनुसूची में स्थान दिलाया था। देश विदेश में करोड़ों मैथिल भाषी है, पर आज तक दूरदर्शन पर मैथिली चैनल प्रारंभ नहीं हो सका है। इस करण संपूर्ण मिथिला वासी अपने को उपेक्षित महसूस कर रहे हैं। इसलिए सदन के माध्यम से भारत सरकार से मांग करते हुए उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मिथिला के सांस्कृतिक संरक्षण और संवर्धन के लिए कृत संकल्पित हैं। इसलिए मैथिली भाषा के सांस्कृतिक विकास हेतु दूरदर्शन मैथिली (डीडी मैथिली) 24 घंटा मैथिली चैनल को शुरू करने की मांग की।
विदित है कि मैथिली भारत के साथ साथ नेपाल के तराई क्षेत्र में बोली जाने वाली प्रमुख भाषा है। मैथिली भारत में मुख्य रूप से दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी, समस्तीपुर, मुंगेर, मुजफ्फरपुर, बेगूसराय, पूर्णिया, कटिहार, किशनगंज, शिवहर, भागलपुर, मधेपुरा, अररिया, सुपौल, वैशाली, सहरसा, रांची, बोकारो, जमशेदपुर, धनबाद और देवघर जिलों में बोली जाती है।इसके अलावे पङोसी देश नेपाल के भी आठ जिलों धनुषा, सिरहा, सुनसरी, सरलाही, सप्तरी, मोहतरी,मोरंग और रौतहट में भी यह बोली जाती है। वर्ष 2003 में मैथिली भाषा को भारतीय संविधान की 8वीं अनुसूची में सम्मिलित किया गयाथा। सन 2007 में नेपाल के अन्तरिम संविधान में इसे एक क्षेत्रीय भाषा के रूप में स्थान दिया गया है और भारत के झारखंड राज्य में इसे द्वितीय राजभाषा का दर्जा प्राप्त है। दूरदर्शन पर मैथिली चैनल के आरंभ होने से मैथिली भाषा का समग्र विकास संभव हो पाएगा एवं लाखों मैथिली कलाकारों को भी इससे रोजगार का सुनहरा अवसर प्राप्त हो सकेगा।
श्री ठाकुर के मैथिली संबोधन को लेकर दरभंगा सहित मिथिला क्षेत्र के लोगो मे सुखद अनुभूति देखी गयी।

Share

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

दहेज के खातिर फिर एक अबला को घर से निकाला, बच्चों से भी किया दूर।

दरभंगा: दहेज लोभियों को दया धर्म कुछ नहीं होता उसे तो बस पैसा, मोटरसाइकिल या अन्य सामान चा…