Home Featured 641 किलोमीटर की बनी मानव श्रृंखला में 33 लाख से अधिक लोग हुए शामिल।
January 19, 2020

641 किलोमीटर की बनी मानव श्रृंखला में 33 लाख से अधिक लोग हुए शामिल।

दरभंगा : समाजिक सरोकारों से जुड़े जल-जीवन-हरियाली अभियान को लेकर बनाया गया मानव शृंखला दरभंगा में काफी लोकप्रिय रहा। यहां तक कि इस कार्यक्रम को लेकर जातिभेद, ऊँच-नीच, आम-खास का भेद मिट गया। यहां तक कि बच्चों और बूढ़ों ने भी एक-दूसरे के हाथ थाम एकजुटता प्रदर्शित की। राजनेता से लेकर जिला के पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी, कुलपति से लेकर छात्र तक सड़कों पर एक दूसरे का हाथ थामें नजर आये। दरभंगा में 641 किलोमीटर की दूरी में मानव शृंखला का निर्माण किया गया। जिसमें 33 लाख से अधिक लोगों की भागीदारी रही।
जिला प्रशासन द्वारा अधिकारिक रूप से दी गयी जानकारी के अनुसार मुख्य मार्ग में 56 किलोमीटर की दूरी में और उप मुख्य मार्ग में 545 किलोमीटर सड़क पर मानव शृंखला बनाया गया। जिसमें 33 लाख 5 हजार लोगों की भागीदारी रही। इसके अलावा ग्राम पंचायतों व वार्ड और विद्यालय स्तर पर भी शृंखला बनाया गया। वहीं चौक-चौराहे पर तो एक से अधिक लाइनें लगी दिखाई दी। स्थानीय कर्पूरी चौक पर विशेष तरह का कार्यक्रम आयोजित किया गया था। यहां पर भाजपा विधायक संजय सरावगी, राजद विधायक फराज फातमी, जदयू नेता पूर्व केन्द्रीय मंत्री मो. अली अशरफ फातमी, महापौर वैजयंती खेड़िया, जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन एस.एम., वरीय पुलिस अधीक्षक बाबूराम, डीडीसी डॉ. कारी प्रसाद महतो आदि भी पंक्तिबद्ध होकर मानव शृंखला बनायी। वहीं प्रमंडलीय वाणिज्य एवं उद्योग परिषद् की ओर से मशरफ बाजार से सुभाष चौक तक मानव शृंखला बनायी गयी। कार्यक्रम में चैम्बर के आॅफ कॉमर्स के अध्यक्ष पवन कुमार सुरेका, विजय कुमार बैरोलिया, सुनील कुमार गामी, सुनील जैन, शत्रुध्न पंजियार आदि व्यवसायी मौजूद थे। वहीं कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय में कुलपति प्रो. सर्वनारायण झा के नेतृत्व में मानव शृंखला बनायी गयी, यहां पर प्रति-कुलपति प्रो. चन्देश्वर प्रसाद सिंह सहित अन्य पदाधिकारियों ने भाग लिया। ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय परिसर में बनाये गये मानव शृंखला में डीएसडब्लु प्रो. रतन कुमार चौधरी, हिन्दी विभागाध्यक्ष प्रो. चन्द्रभानु प्रसाद सिंह, कुलसचिव निशीथ कुमार राय, प्रॉक्टर प्रो. अजीत कुमार चौधरी, कर्मचारी नेता दशरथ कुमार सहित बड़ी संख्या में अधिकारी, कर्मी और छात्र पंक्तिबद्ध होकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अपील पर मानव शृंखला बनायी। सबसे बड़ी बात रही कि आज मौसम काफी ठंढ़ था और तेज पछिया हवा सिहरन पैदा कर रही थी। बावजूद लोग सड़कों पर पंक्तिबद्ध होकर खड़े रहे। खासकर बच्चों और बूढ़े भी ठंढ़ को लेकर बिचलित नहीं हुए। बड़ी संख्या में महिलाओं की भागीदारी रही। ये तो रही जिला मुख्यालय की बात सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में भी महिलायें सड़कों पर दिखी। यहां तक कि महिलायें इस दौरान सेल्फी भी ले रही थी और मानव शृंखला के उद्देश्य पर प्रकाश भी डाल रही थी। यही हाल जिला मुख्यालय से लेकर सुदूर प्रखंडों में अवस्थित गांवों में भी दिखा। जिसकी ड्रोन से फोटोग्राफी भी करायी गयी। पुलिस अधिकारियों द्वारा दरभंगा शहर में जागरूकता रैली भी निकाली गयी। वैसे कई विद्यालयों में आज वृक्षारोपण भी किया गया। कुल मिलाकर कहें तो मानव शृंखला को लेकर जल-जीवन-हरियाली के प्रति जो लोगों में जिज्ञासा थी उसे पूरा करने में सरकार ने कामयाबी हासिल की और जागरूकता इससे आयेगी इससे इंकार नहीं किया जा सकता।

Share

लॉकडाउन में अब नए रोल में दिखी पुलिस, भूखों को भोजन करवाने की उठा रही जिम्मेवारी।

जिला विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा जरूरतमंदों केलिए प्रतिदिन उपलब्ध करवाया जा रहा है भोजन।

विदेश से लौटे लोगों की हो रही ट्रैकिंग, सूचनाओं के सम्प्रेषण केलिए नियंत्रण कक्ष स्थापित।

बाहर से आने वाले लोगों के ठहरने, खाने-पीने व मेडिकल चेकअप की व्यवस्था पर डीएम खुद रख रहे हैं नजर।

लॉकडाउन में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ होगी फसल कटाई, खुलेगी कृषि यंत्रों की भी दुकान।

पांच दिनों में 655 वाहनो से वसूला गया पाँच लाख का जुर्माना, कई पर प्राथमिकी भी दर्ज।

1 Comment

Leave a Reply

Check Also

लॉकडाउन में अब नए रोल में दिखी पुलिस, भूखों को भोजन करवाने की उठा रही जिम्मेवारी।

देखिये वीडियो भी👆 दरभंगा: देश में कोरोना वायरस की वजह से 21 दिनों के लिए सबकुछ बंद…