Home Featured शारदामणि पुस्तक लोकार्पण समिति की समीक्षा बैठक आयोजित।
February 6, 2020

शारदामणि पुस्तक लोकार्पण समिति की समीक्षा बैठक आयोजित।

दरभंगा: मणि श्रृंखला के अंतर्गत प्रकाशित शारदामणि पुस्तक का लोकार्पण देशभर में 323 स्थानों पर होना ऐतिहासिक तो है ही, इस पुस्तक के लोकार्पण के प्रति दक्षिण भारत के प्रवासी मैथिलों में दिखा गजब का उत्साह मैथिली साहित्य जगत के लिए शुभ संकेत है। उक्त बातें विद्यापति सेवा संस्थान के महासचिव डॉ बैद्यनाथ चौधरी बैजू ने बृहस्पतिवार को शहर के शुभंकरपुर स्थित श्मशान काली मंदिर में आयोजित शारदामणि लोकार्पण समिति की समीक्षा बैठक में कही। अपने संबोधन में उन्होंने मणि श्रृंखला के रचनाकार मणिकांत झा एवं प्रकाशक संस्था महात्मा गांधी शिक्षण संस्थान के चेयरमैन हीरा कुमार झा द्वारा मैथिली साहित्य की समृद्धि के लिए उठाए जा रहे कदमों की जमकर प्रशंसा की।
मैथिली साहित्य के हास्य शिरोमणि डॉ जयप्रकाश चौधरी जनक की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में स्नातकोत्तर राजनीति विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डॉ जितेंद्र नारायण ने कहा कि सहज व सरल शब्दों में गढ़ी जा रही मणिशृंखला के पुस्तकों की लोकप्रियता काबिले तारीफ है। अपने संबोधन में उन्होंने मणि श्रृंखला के अंतर्गत विभिन्न सामाजिक एवं अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर की जा रही रचनाओं की तारीफ की। मौके पर वरिष्ठ पत्रकार विष्णु कुमार झा ने कहा कि शारदा मणि पुस्तक का बड़े पैमाने पर किया गया लोकार्पण मैथिली भाषा साहित्य के लिए एक कीर्तिमान है। उन्होंने कहा कि अन्य भाषा की किसी पुस्तक का शायद ही ऐसा शानदार लोकार्पण देखने में आया हो।
महात्मा गाँधी शिक्षण संस्थान के चेयरमैन हीरा कुमार झा एवं रचनाकार मणिकांत झा ने मणि श्रृंखला की 26 वीं पुस्तक शारदा मणि के प्रकाशन व वितरण से लेकर लोकार्पण तक सहयोग देने वाले सभी मैथिली प्रेमियों के प्रति आभार जताते हुए दिल्ली, अमदाबाद, बंगलोर, रांची, देवघर, सहरसा, सुपौल, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, बेगूसराय आदि जगहों पर आयोजित किए गये सभी 323 लोकार्पण समारोहों की विस्तृत जानकारी दी। बैठक में अपने विचार रखते हुए प्रवीण कुमार झा एवं अशोक कुमार चौधरी ने मणि शृंखला के सुखद भविष्य की कामना करते हुए इस श्रृंखला के प्रकाशन में मुद्रण का कार्य कर रहे त्रिदेव प्रिंटर्स की भूमिका की सराहना की।
अध्यक्षीय संबोधन में डॉ जयप्रकाश चौधरी जनक ने मणि श्रृंखला अंतर्गत प्रकाशित पुस्तकों को मैथिली साहित्य के लिए मील का पत्थर बताते हुए मातृभाषा मैथिली के उत्थान के लिए महात्मा गांधी शिक्षण संस्थान द्वारा प्रकाशित विभिन्न पुस्तकों की समीक्षा करते हुए रचनाकार मणिकांत झा को उत्कृष्ट रचनाओं के लिए शुभकामनाएं दी।

Share

Leave a Reply

Check Also

क्वॉरेंटाइन सेंटरों की व्यवस्था का जायजा लेने के लिए जिलाधिकारी ने किया औचक निरीक्षण।

दरभंगा: नोवल कोरोना वायरस के फैलने के बाद देश के संवेदनशील राज्यों से लौटकर आये प्रवासी लो…