Home Featured चॉयस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम के तहत दूरस्थ शिक्षा निदेशालय द्वारा संचालित पाठ्यक्रम की समीक्षा।
February 7, 2020

चॉयस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम के तहत दूरस्थ शिक्षा निदेशालय द्वारा संचालित पाठ्यक्रम की समीक्षा।

दरभंगा : ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय मुख्यालय के सभागार में कुलपति प्रो. सुरेंद्र कुमार सिंह की अध्यक्षता में हुई। इस मौके पर प्रति-कुलपति प्रो. जयगोपाल, अध्यक्ष, छात्र कल्याण डॉ. रतन कुमार चौधरी एवं विभिन्न विभागों के संसाधनों एवं विभागाध्यक्षों की उपस्थिति में चॉयस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम के तहत दूरस्थ शिक्षा निदेशालय द्वारा संचालित स्नातक एवं स्नातकोत्तर स्तरीय कार्यक्रमों के पाठ्यक्रम तथा स्व-अधिगम सामग्री तैयार करने के संबंध में विचार विमर्श किया गया। बैठक में यह विचार किया गया कि विश्वविद्यालय अंतर्गत जो पाठ्यक्रम की विषय वस्तु है, उसको ही ओडीएल माध्यम के स्व-अधिगम सामग्री में परिवर्तित किया जाएगा। इस हेतु विभागाध्यक्षों एवं विषय विशेषज्ञ की कमेटी बनाकर संकायध्यक्षों के दिशा निर्देश में कार्य को मूर्त रूप देने पर विचार किया गया। विषय वस्तु को सेमेस्टर प्रणाली के अनुरूप विभाजित कर तैयार किया जाएगा एवं परीक्षा पूर्व की भांति ही वार्षिक स्तर पर ही होगी। यह भी विचार किया गया। विदित हो कि प्रत्येक पाठ्यक्रम को विश्वविद्यालय स्तर एवं दूरस्थ माध्यम पर एक रूप होना चाहिए। सभी विभागाध्यक्षों एवं संकायाध्यक्षों ने कुलपति के समक्ष अपने-अपने विचार रखें। प्रो. सिंह ने सभी बिंदुओं पर विचार-विमर्श के उपरांत इस प्रणाली को स्नातकोत्तर स्तर पर लागू करने एवं इस दिशा में सार्थक पहल करने का सुझाव दिया। उन्होंने यूजीसी/डेब की नियमावली के अनुरूप कार्य करने की सलाह दी। निदेशक, दूरस्थ शिक्षा सरदार अरविंद सिंह ने यूजीसी/डेव की नियमावली एवं दूरस्थ शिक्षा की वर्तमान आवश्यकता अनुरूप पाठ्यक्रम को परिवर्तित रूप में प्रस्तुत करने पर चर्चा की। उपनिदेशक डॉ. शंभु प्रसाद ने यूजीसी द्वारा निर्धारित मानदंडों को विस्तार से बताया। सहायक निदेशक डॉ. अखिलेश कुमार मिश्र ने आगत अतिथियों का स्वागत कर आज की बैठक की उपयोगिता पर प्रकाश डाला।

Share

1 Comment

Leave a Reply

Check Also

क्वॉरेंटाइन सेंटरों की व्यवस्था का जायजा लेने के लिए जिलाधिकारी ने किया औचक निरीक्षण।

दरभंगा: नोवल कोरोना वायरस के फैलने के बाद देश के संवेदनशील राज्यों से लौटकर आये प्रवासी लो…