Home Featured जीजा-साली के अवैध संबंध में गयी महिला की जान, 24 घण्टे में पुलिस ने किया उदभेदन।
3 weeks ago

जीजा-साली के अवैध संबंध में गयी महिला की जान, 24 घण्टे में पुलिस ने किया उदभेदन।

देखिए वीडियो भी।

देखिए वीडियो भी 👆

दरभंगा: बुधवार को वरीय पुलिस अधीक्षक बाबूराम ने नगर पुलिस अधीक्षक कार्यालय में प्रेस वार्ता में एक हत्याकांड का खुलासा किया है। इस हत्याकांड ने पति-पत्नी के रिश्ते के साथ साथ खून के रिश्ते को भी तार-तार कर दिया है। एक महिला ने अपनी सगी बहन के पति के साथ अवैध संबंध बनाया और फिर शादी के लिए दबाब बनाकर बहन की हत्या जीजा एवं उसके साथियों से करवा दी।
इस संबंध में जानकारी देते हुए वरीय पुलिस अधीक्षक बाबूराम ने बताया कि जिले के बहादुरपुर थानाक्षेत्र के तरालाही में रविवार की रात संतोष भगत की पत्नी सुधा देवी की हत्या का प्रयास उसके पिता महेश्वर भगत के घर में दो अज्ञात लोगों द्वारा घर मे घुसकर करने की बात सामने आयी थी। इलाज के दौरान सोमवार की रात करीब आठ बजे डीएमसीएच में उसकी मृत्यु हो गयी। परिवार के लोगो ने इसकी सूचना पुलिस को नही दी। मंगलवार की सुबह किसी स्थानीय व्यक्ति ने पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस जब तरालाही पहुंची तो पता चला सभी लोग डीएमसीएच गए हैं। स्थानीय लोगों से पता चला कि सुधा और उसके पति के बीच विवाद था। सुधा की छोटी बहन अंजली का सुधा के पति संतोष भगत के साथ अवैध सम्बन्ध था।
पुलिस ने डीएमसीएच पहुँचकर लाश को कब्जे में लेकर उसका पोस्टमार्टम करवाया। केस की छानबीन में प्रशिक्षु आईपीएस सैयद इमरान मसूद तकनीकी साक्ष्यों के साथ जुट गए। पहले तो जीजा – साली ने पुलिस भरमाने की पूरी कोशिश की। पर तकनीकी साक्ष्यों के आधार पर पूछताछ में उन्होंने अपना कबूल कर लिया। इस काम मे मृतका के पति मुजफ्फरपुर जिला के कटरा थाना के बकुची निवासी शिवनन्दन भगत के पुत्र संतोष भगत ने अपने दो साथियों मुजफ्फरपुर के गायघाट निवासी सुबोध सिंह एवं प्रकाश सिंह की मदद ली थी। इस काम केलिए संतोष ने उन्हें 10-10 हजार रुपये दिए थे। पुलिस ने उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया।
पुछताछ में पता चला कि अंजली अपने जीजा संतोष को शादी का दवाब दे रही थी जिसमें उसकी बहन सुधा बाधक बन रही थी। इसलिए दोनो ने मिलकर सुधा को रास्ते से हटाने का प्लान बनाया। रविवार की रात अंजली सुधा के साथ कमरे में सोयी थी। सुधा की मां, उसका 20 वर्षीय भाई प्रिंस एवं सुधा का 4 साल का पुत्र बगल के कमरे में सोये थे। सबके सोने के बाद देर रात्रि संतोष अपने दोनों साथियों के सुधा के घर एक भाड़े के स्कोर्पियो से पहुँचा। अंजली ने चुपचाप दरवाजा खोल दिया। कमरे में जाकर उनलोगों ने सुधा का मुंह कपड़े से बन्द कर उसका गला दबा दिया। फिर तीनो उसे मरा हुआ समझकर भाग निकले। इसके बाद प्लान के अनुसार अंजली ने अपने भाई प्रिंस और माँ ज्योति देवी को जगाया और बताया कि दो अज्ञात लोगों ने सुधा की हत्या कर दी है। हल्ला होते ही आसपास के लोग भी इक्क्ठा हो गए। सबने सुधा को डीएमसीएच पहुंचाया। उस समय वो पूरी तरह मरी नही थी और कुछ सांसे बाकी थी। पर इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी।
पुलिस द्वारा इस कांड के त्वरित उदभेदन में प्रशिक्षु आइपीएस सैयद इमरान मसूद की भूमिका सराहनीय रही। उनकी तत्परता से 24 घण्टे के भीतर कांड का उदभेदन हो गया और सभी अपराधी पकड़े गए।

Share

Check Also

करोड़ो के ठगी का आरोपी भूमाफिया रिजवान उर्फ राजा गिरफ्तार, संपत्ति जब्ती की होगी कारवाई।

दरभंगा: करोड़ों की ठगी करने वाले एक भू-माफिया को नगर थाने की पुलिस ने बुधवार को एकमी से गिर…