Home Featured गुड़गांव से आकर दरभंगा में भटक रहे सहरसा के प्रवासियों को बस द्वारा भेजा गया सहरसा।
3 weeks ago

गुड़गांव से आकर दरभंगा में भटक रहे सहरसा के प्रवासियों को बस द्वारा भेजा गया सहरसा।

देखिये वीडियो भी।

देखिये वीडियो भी👆
दरभंगा: प्रवासियों का विभिन्न राज्यों से आना लगातार जारी है। दरभंगा में कई जिलों के लोग ट्रेन से भी आ रहे हैं जिन्हें बस के माध्यम से गन्तव्य तक भेजा जाता है। पर रविवार को कुछ अलग ही वाकया सामने आया जिसमें एकबार पुनः जिला प्रशासन की तत्परता दिखी है।
दरअसल रविवार की दोपहर करीब 12 बजे 15-20 की संख्या में लोग बोरिया बिस्तर लेकर दरभंगा से लहेरियासराय की तरफ आते दिखे। चट्टी चौक रेलवे गुमटी पर पेड़ की छांव में सुस्ताने केलिए रुके। इस बीच स्थानीय लोगो ने उनसे पूछताछ की तो पता चला ये लोग हरियाणा के गुड़गांव से आ रहे हैं और इन्हें सहरसा जाना है। बिहार के सीमा तक पहले एक बस ने छोड़ा। फिर छपरा में इन्हें सहरसा भेजने केलिए एक बस में बिठाया गया। पर उस बस ने उन्हें सहरसा की जगह दरभंगा एनएच के निकट उतार दिया। वहाँ किसी ने बताया कि पटरी पकड़ कर लहेरियासराय की तरफ जाओ, कोई बस मिल जाएगा। इसी उधेड़बुन में ये लोग गुमटी पर रुके थे। स्थानीय लोगो द्वारा वॉयस ऑफ दरभंगा को इसकी सूचना पहले बहादुरपुर थाना एवं कंट्रोल रूम को दी गयी। सूचना के उपरांत लहेरियासराय थाना के एएसआई शम्भू प्रसाद ठाकुर पहुँचे। उन्होंने पूछताछ की। स्थानीय वार्ड 46 के पार्षद राजू पासवान भी पहुंचे। स्थानीय स्तर पर व्यवस्था करके सबको नाश्ता पानी करवाकर उन्हें फेकला होते हुए चिकनी निकलने और बहेड़ा रुट का रास्ता बता दिया गया।
इस बीच इसकी जानकारी दरभंगा के जिलाधिकारी डॉ0 त्यागराजन एसएम को भी प्राप्त हुई। उन्होंने तुरंत डीटीओ से बात करके सहरसा केलिए बस की व्यवस्था करवायी। परंतु तबतक सभी यात्री चट्टी चौक से फेकला की ओर प्रस्थान कर चुके थे। सभी पुलिस के द्वारा ट्रैक किया गया और फेकला के निकट सभी को रोका गया। इसके बाद वहां बस पहुंची। सबको बस में बिठा कर सहरसा केलिए भेज दिया गया। इस दौरान पूरे प्रक्रिया पर जिलाधिकारी स्वयं नजर बनाये हुए थे।
बताते चलें कि इस तरह प्रवासियों को देखकर स्थानीय लोगो मे आशंकाएं उतपन्न होती है। ऐसे में इतनी लंबी दूरी तय करने में जिले में किन किन मुहल्लों से गुजरते और किन किन के संपर्क में आते और स्थानीय लोगों की क्या प्रतिक्रियाएं होती, यह भी बड़ा सवाल बन सकता था। ऐसे जिला प्रशासन द्वारा इन्हें खोजकर बस में बिठाकर सहरसा भिजवाना निश्चित रूप से जिलाधिकारी के कर्तव्यनिर्वहन के साथ साथ मानवीय चेहरा का भी परिचायक है।

Share

Check Also

दरभंगा: कोरोना के 5 नए मामलों के साथ 92 पहुँची कोरोना पॉजिटिवों की संख्या।

दरभंगा: जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के पांच नए मामले सामने आए है। डीएम त्यागराजन एसएम न…