Home Featured वंडर एप मॉडल के बाद दरभंगा के डीएम ने अब कोरोना से बचाव का प्रस्तुत किया नया मॉडल।
June 1, 2020

वंडर एप मॉडल के बाद दरभंगा के डीएम ने अब कोरोना से बचाव का प्रस्तुत किया नया मॉडल।

देखिए वीडियो भी।

देखिए वीडियो भी 👆

दरभंगा: फेम इंडिया मैगजीन में दरभंगा के जिलाधिकारी डॉ0 त्यागराजन एसएम का नाम यूँ ही नही आया। समस्या के समाधान केलिए नये तरीकों का ईजाद करके पहले भी दरभंगा को मॉडल के रूप में प्रस्तुत कर चुके हैं। मातृत्व मृत्यु दर को कम करने केलिए वंडर एप को मॉडल के रूप में प्रस्तुत कर चुकने के बाद अब कोरोना से लड़ने केलिए भी एक नयी पहल जिलाधिकारी के निर्देश पर सामने आया है। सोमवार को आईटीआई दरभंगा द्वारा पैडल हैंड सेनेटाइजर एवं फुल बॉडी सेनेटाइजर बनाकर जिला प्रशासन को सुपुर्द किया गया है। इसका सफल प्रयोग करके इसे डीएम कार्यालय के समक्ष मॉडल के रूप में लगाया गया है।

आईटीआई के प्रिंसिपल ओमप्रकाश के द्वारा बताया गया कि जिलाधिकारी के निर्देश पर आईटीआई की टीम द्वारा पैडल हैंड सेनेटाइजर एवं पैडल फुल बॉडी सेनेटाइजर बनाया गया है। इसमें हाथ का उपयोग नही किया जाएगा। पैडल पर पैर रखकर इसका उपयोग किया जा सकता है। टीम द्वारा इसे बनाने केलिए तीन दिनो तक लगातार कार्य किया गया।

जिलाधिकारी डॉ0 त्यागराजन एसएम ने कहा कि उन्होंने आईटीआई दरभंगा को निर्देश दिया था कि कुछ ऐसा नया अविष्कार करें जिसमे सेनेटाइजेशन केलिए हाथ न लगाना पड़े। इसी तहत प्रिंसिपल ओमप्रकाश एवं चीफ इंस्ट्रक्टर नीलमणि कुमार द्वारा उनके टीम के साथ बेहतरीन पैडल सेनेटाइजर बनाया गया है। इसे एक मॉडल के रूप में बनाया गया है ताकि इसका उपयोग समाज को कोरोना से बचाने में किया जाएगा। इसे भीड़ भाड़ वाली जगहों जैसे दुकान, शॉपिंग मॉल्स, कार्यालय आदि में लगाया जा सकता है। इसके उपयोग से सेनेटाइज्ड होने में कहीं भी किसी को हाथ नही लगाने जरूरत नही है। जहां जहां हाथ लगता है, वहां संक्रमण फैलने की गुंजाइश रहती है। इसलिए पैडल सेनेटाइजर बनाने का निर्देश दिया गया था। पैडल पर पैर रखते ही सेनेटाइज्ड हुआ जा सकता है। इसकारण यह ज्यादा सुरक्षित भी है।जिलाधिकारी ने टीम को बधाई देते हुए कहा कि दरभंगा में विभिन्न जगहों पर इसका उपयोग उदाहरण होगा और इसतरह हम समाज, राज्य और देश के सामने कोरोना से लड़ने केलिए बढिया उदाहरण प्रस्तुत कर सकते हैं।

इस पैडल सेनेटाइजर को बनाने में गवर्नमेंट आईटीआई दरभंगा के प्रिंसिपल ओमप्रकाश के साथ साथ इलेक्ट्रिकल चीफ इंस्ट्रक्टर नीलमणि कुमार, इलेक्ट्रिक इंस्ट्रक्टर अनिल कुमार, डिजायनर संतोष कुमार वर्मा, मैकेनिकल चीफ इंस्ट्रक्टर राजकिशोर चौधरी, हीटर इंस्ट्रक्टर सुजीत कुमार, दिनेश कुमार विद्यार्थी एवं चन्द्रमणि पांडे आदि का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

Share

Check Also

दरभंगा समाहरणालय परिसर में बाढ़ का नजारा, आने जाने वालों को हो रही परेशानी।

देखिए वीडियो भी 👆 दरभंगा: थोड़ी सी बारिश में भी जलजमाव दरभंगा शहर की नियति बन गयी ह…