Home Featured वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा मुख्यमंत्री ने की बाढ़ पूर्व तैयारियों की समीक्षा।
June 13, 2020

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा मुख्यमंत्री ने की बाढ़ पूर्व तैयारियों की समीक्षा।

दरभंगा: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि राज्य के खजाने पर पहला अधिकार आपदा प्रभावित व्यक्ति का है।
वे शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से राज्य में चल रही बाढ़ पूर्व तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। इस दौरान दरभंगा में बाढ़ और आपदा से बचाव के लिए की गईं तैयारियों पर संतोष व्यक्त किया। कहा कि उत्तर बिहार के सभी जिलों में हर वर्ष बाढ़ आती है। इसमें दरभंगा सबसे ज्यादा प्रभावित होता है। बाढ़ आने पर इन जिलों में सामान्य जनजीवन बुरी तरह प्रभावित होता है। लेकिन, प्रभावित क्षेत्रों में निरोधात्मक एवं सरक्षात्मक उपाय सही ढंग से किए जाएं तो बाढ़ इससे जान माल का कम नुकसान होता है। राज्य सरकार किसी भी आपदा से निपटने में सक्षम है। बाढ़ से सुरक्षा के लिए पुख्ता तैयारी की जरूरत है। बाढ़ के समय बचाव एवं राहत कार्य संचालित करने को ले आपदा विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा मानक संचालन प्रक्रिया, एसओपी जारी कर दिया गया है। निर्देश दिया गया है कि एसओपी के तहत सभी जिलों में समय पूर्व सारी तैयारियां कर ली जाएं।
उन्होंने कहा कि बाढ़ ग्रस्त इलाकों में फंसे लोगों को सुरक्षित बाहर निकालकर बाढ़ आश्रय स्थल, शरण स्थली में रखना है। इस वर्ष पूरा देश कोरोना महामारी की त्रासदी झेल रहा है। इसलिए आपदा राहत केंद्रों के संचालन में विशेष सावधानी की जरूरत होगी। सभी आपदा राहत केंद्रों में शारीरिक दूरी के नियम का पालन करना जरूरी होगा। सभी को मास्क पहनना अनिवार्य है। राज्य के खजाने पर सबसे पहला अधिकार आपदा प्रभावित व्यक्ति का है। इसके पूर्व मुख्य सचिव दीपक कुमार ने बाढ़ पूर्व तैयारी की बारी-बारी से समीक्षा की। मौके पर आयुक्त, दरभंगा प्रमंडल मयंक बरबड़े, पुलिस महानिरीक्षक, मिथिला प्रक्षेत्र अजिताभ कुमार, नगर पुलिस अधीक्षक योगेंद्र कुमार, सिविल सर्जन आदि मौजूद थे।

समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन एसएम ने बताया कि जिले में पिछले सालों में आए बाढ़ के सभी पहलुओं को सामने रखते हुए तैयारियां की जा रही है। जिले के शहरी सुरक्षा तटबंध, कमला बलान बायां भाग एवं दायां भाग तटबंध के कमजोर बिदुओं को चिन्हि्त कर स्ट्रग्थेनिग कर दिया गया है। पिछले बाढ़ में जिला में छह जगहों पर तटबंध में टूटे थे। पिडारूच में मरम्मत कार्य तेजी से कराया जा रहा है। जिले में उपलब्ध सभी सरकारी नावों की मरम्मत करा ली गई है। निजी नाव मालिकों से एकरारनामा कर लिया गया है। कहा कि जिला में सरकारी नाव 93 है एवं 295 निजी नाव मालिकों से एकरानामा कराया गया है। बाढ़ से सुरक्षा हेतु कुछ जगहों पर स्लूइस गेट भी बनाया जा रहा है। कहा कि तटबंधों की सुरक्षा हेतु अतिरिक्त होमगार्ड के जवानों की जरूरत है। पॉलीथीन शीट्स के लिए दर का निर्धारण हो गया है। जिला में जीवन रक्षक दवा एवं पशु दवा पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। डीएम ने बताया कि जिला के शहरी क्षेत्रों में भी जल-जमाव एवं बाढ़ से सुरक्षा की तैयारी की जा रही है। बताया कि दरभंगा समस्तीपुर जोन में रेलवे लाइन का दोहरीकरण कार्य हुआ है, उसके मलबे से निकास मार्ग अवरूद्ध हो गया है। उस मलबे को हटाने के लिए नगर विकास विभाग की मदद की जरूरत है। बाढ़ के समय धान का बीचड़ा तैयार करने के लिए कम्युनिटी नर्सरी को चालू करने का भी सुझाव दिया गया।

Share

Check Also

आम तोड़ने को लेकर दो पक्षों के बीच झड़प में युवक की हत्या के बाद स्थिति तनावपूर्ण।

देखिए वीडियो भी 👆 दरभंगा: जिले के पतोर ओपी क्षेत्र के सोभेपट्टी गांव में सोमवार की…