Home Featured बाढ़ से हुए गृह क्षति का सर्वेक्षण एक सप्ताह के अंदर पूरा करने का निर्देश।
September 7, 2019

बाढ़ से हुए गृह क्षति का सर्वेक्षण एक सप्ताह के अंदर पूरा करने का निर्देश।

दरभंगा : जिलाधिकारी डॉ त्यागराजन एसएम ने जिला के सभी अंचलाधिकारियों को एक सप्ताह के अन्दर बाढ़ से क्षतिग्रस्त घर/मकान/झोपड़ी का सर्वेक्षण पूरा करके पूर्ण प्रतिवेदन समर्पित करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि गृहक्षति का सर्वेक्षण हेतु एक विशेष मोबाइल एप ‘‘गृह क्षति आकलन’’ विकसित किया गया है। इसी एप के माध्यम से क्षतिग्रस्त घर/मकान आदि का फोटोग्राफ्स लेनी है और डाटा जुटाना है।

उन्होंने कहा कि गृहक्षति सर्वेक्षण हेतु सभी अंचलों में सर्वेक्षण टीम पूर्व में ही गठित कर ली गई है। सर्वेक्षण टीम के कर्मी अपने एंड्रायड मोबाइल में गुगल प्ले स्टोर से ‘‘गृह क्षति आकलन’’एप डाउनलोड करके इस्टॉल कर लेगे और एप पर रजिस्टर करके गृहक्षति सर्वेक्षण का कार्य करेंगे।
समीक्षा में गौड़ाबौराम, जाले, केवटी, किरतपुर अंचलों में गृह क्षति सर्वेक्षण कार्य की प्रगति काफी धीमी पाई गई। जिलाधिकारी ने उक्त अंचलों के अंचलाधिकारी एवं वरीय प्रभारी पदाधिकारी को सर्वेक्षण कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया है।
उन्होंने ये बातें कार्यालय प्रकोष्ठ में आयोजित बाढ़/आपदा राहत वितरण की समीक्षा बैठक में कही है।
उन्होंने कहा कि कतिपय अंचलों के थोड़े-थोड़े लाभार्थियों के डाटा अद्यतीकरण का कार्य लंबित रहने के चलते उनके बैंक खाते में जी.आर. की राशि अबतक नहीं भेजी गई है। उन्होंने सभी छूटे हुए बाढ़ पीड़ित लाभुक परिवारों का डाटा शुद्ध कर पी.एफ.एम.एस. पोर्टल पर अपलोड करने का निदेश दिया है। इसमें अलीनगर, बहादुरपुर, बिरौल, दरभंगा सदर, गौड़ाबौराम, हनुमाननगर, जाले, केवटी, किरतपुर, कुशेश्वरस्थान अंचलों में छूटे हुए लाभुक परिवारों की संख्या ज्यादा है।
जिलाधिकारी ने उक्त अंचलों के अंचलाधिकारी/वरीय प्रभारी पदाधिकारी को दो दिनों के अंदर यह कार्य पूर्ण करने का निर्देश दिया है। अन्यथा उनके विरूद्ध कार्रवाई की जा सकती है। किरतपुर अंचल में पिछले दिनों कोई प्रगति नहीं देखे जाने के चलते किरतपुर अंचलाधिकारी से स्पष्टीकरण पूछा गया है।
जिलाधिकारी ने जल-जीवन हरियाली अभियान एवं कोर्ट केसेज मैटर को सर्वोच्च प्राथमिकता देकर निष्पादन करने को कहा है। उन्होंने कहा कि जल-जीवन हरियाली अभियान के तहत प्राकृतिक जल श्रोतों का जीर्णोद्वार एवं अतिक्रमण मुक्त करने की कार्रवाई की जा रही है। राज्य सरकार द्वारा उक्त कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता सूची में रखा गया है। दरभंगा जिला में अवस्थित पोखर/तालाब/आहर/पैन के उड़ाहीकरण एवं अतिक्रमण मुक्त करने का कार्य प्रारंभ किया गया है। जिसमें तेजी लाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि दरभंगा जिला में मत्स्य विभाग द्वारा कुल 2374 तालाबों का सर्वेक्षण किया गया है। जिसमें से 628 तालाबों पर अतिक्रमण पाया गया है। जिलाधिकारी ने सभी अंचलाधिकारी को मत्स्य विभाग के 628 अतिक्रमित तालाबों में तुरंत अतिक्रमण वाद चलाकर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई करने को कहा है।

Share

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

जिला मलेरिया पदाधिकारी ने किया हायाघाट स्वास्थ केंद्र का निरीक्षण।

हायाघाट : जिला मलेरिया पदाधिकारी डॉ जय प्रकाश महतो ने शनिवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र…