Home Featured द्रौपदी को बचाने वाले कृष्ण नहीं है बिहार में, जनता ने धृतराष्ट्र बनकर दुर्योधनों को चुना: पप्पू यादव।
November 22, 2020

द्रौपदी को बचाने वाले कृष्ण नहीं है बिहार में, जनता ने धृतराष्ट्र बनकर दुर्योधनों को चुना: पप्पू यादव।

देखिये वीडियो भी।

देखिये वीडियो भी👆

दरभंगा: दरभंगा सहित पूरे बिहार को शर्मसार करने वाली आधारपुर कांड के पीड़ितों से मिलने शनिवार देर शाम जाप सुप्रीमो पप्पू यादव पहुँचे। उन्होंने पीड़ित परिवार का हाल जाना और तत्काल 25000 रुपये की आर्थिक सहायता दी।
पप्पू यादव ने बताया कि उन्हें कर्तकर्ताओं ने फोन पर सूचना दी कि एक विधवा महिला के साथ बदसलूकी और जबरन किसी विक्षिप्त से मांग भरवा देने जैसी घृणित घटना हुई है। साथ ही सोशल मीडिया के माध्यम से उन्होंने घटना का वीडियो देखा। इससे बड़ी दुर्भाग्य की बात नही हो सकती। एक महिला के साथ जिस प्रकार का वर्ताव एक महिला के साथ किया गया है, वह बिहार केलिए अशुभ है।
उन्होंने सरकार पर वार करते हुए कहा कि कहां गये महिला का साइलेंट वोट मिलने की बात करने वाले, महिला सशक्तिकरण और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का जोर शोर से नारा देने वाले। आज सब चुप क्यों हैं! आंदोलनकारी लोग केवल दिल्ली मुम्बई में आंदोलन करेंगे, इस घटना पर मौन क्यों हैं!
साथ ही उन्होंने चुने हुए जनप्रतिनिधियों पर सवाल उठाते हुए कहा कि बिहार में अपराधियों की सरकार है। टिकट ही जब अपराधी एवं दुराचारी को दिया जाएगा तो जीत कर भी वैसे ही लोग जाएंगे, क्योंकि जनता धृतराष्ट्र बनी हुई है। आज यहां से भी जिस प्रतिनिधि को चुना है, उसे कभी किसी ने नही देखा। यह कलयुग है, यहां किसी द्रोपदी को बचाने कृष्ण नही आने वाले जबतक जनता धृतराष्ट्र बनी रहेगी। पूरा बिहार दुर्योधनों से भरा हुआ है।
पप्पू यादव ने खुले तौर पर आरोप लगाया कि घटना के आरोपियों को सत्ता का संरक्षण प्राप्त है। इसलिए पीड़ित परिवार को अभी भी धमकी मिल रही है। पीड़ित परिवार अभी भी डरा हुआ है। दोषी पक्ष को भय नही है।
जाप सुप्रीमो ने सरकार से मांग की है कि पीड़ित परिवार को 20 लाख रुपये मुआवजा मिले और सुरक्षा प्रदान किया जाय। साथ ही घटना का स्पीडी ट्रायल कराकर 6 महीने के अंदर सारे दोषियों को सजा मिले।

Share

Check Also

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम के तहत एसबीआई द्वारा स्कूल बैग का वितरण।

दरभंगा: जिले के सिंहवाड़ा प्रखंड के माधोपुर बस्तवाड़ा के प्राथमिक विद्यालय के प्रांगण में …