Home Featured केवल हॉस्पिटल को ही मिलेगा रेमडेसिविर, एंटी बायोटिक दवाओं की कालाबाजारी पर डीएम हुए सख्त।
5 days ago

केवल हॉस्पिटल को ही मिलेगा रेमडेसिविर, एंटी बायोटिक दवाओं की कालाबाजारी पर डीएम हुए सख्त।

दरभंगा: (कोविड-19) कोरोना के बढ़ते संक्रमण के रोकथाम एवं कोरोना मरीजों के इलाज के लिए की गयी व्यवस्था को लेकर सरकार द्वारा एंटी बायोटिक दवाओं की कालाबाजारी पर अंकुश रखने को लेकर जारी आदेश का शत-प्रतिशत अनुपालन कराने हेतु दरभंगा के अम्बेडकर सभागार में जिलाधिकारी डॉ0 त्यागराजन एसएम की अध्यक्षता में संबंधित पदाधिकारियों के साथ बैठक आयोजित की गई।
बैठक में जिलाधिकारी ने सहायक औषधि नियंत्रक, दरभंगा एवं सभी दवा निरीक्षकों को कोरोना बीमारी की इलाज के लिए आवश्यक एंटी बायोटिक दवाओं के भंडारण एवं बिक्री पर पैनी नजर रखने के निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि कई जिलों से ऐसी सूचना मिल रही है कि कई दवा विक्रेताओं द्वारा कोरोना के लिए आवश्यक एंटी बायोटिक दवाओं की जमाखोरी कर ऊंची कीमतों पर बेची जा रही है।
उन्होंने कहा कि दरभंगा में इसके लिए तीन मजिस्ट्रेट को प्रतिनियुक्त किया गया है। साथ ही सभी दवा निरीक्षक दवा दुकानों एवं निजी अस्पतालों की जांच करते रहेंगे।
गंभीर कोरोना मरीजों के लिए एन्टी बायोटिक दवा रेमडेसिविर जिन अस्पतालों को आवंटित किया जा रहा है, उन अस्पतालों द्वारा अपने किन-किन मरीजों को दिया जा रहा है इसका हिसाब रखा जाए। यदि कहीं से भी किसी प्रकार की गड़बड़ी की शिकायत मिलती है तो उसके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करवाते हुए तुरंत अग्रेत्तर कानूनी कार्रवाई की जाए।
यही नहीं यदि दवा एजेंसी द्वारा सीधे दवा दुकानदार को या हॉस्पिटल को कोई एंटी बायोटिक दवा दी जा रही है तो उसका भी हिसाब रखा जाए कि वह दवा किसको, कब, कितना दिया गया है। जिन हॉस्पिटलों को दवा एजेंसी द्वारा सीधे दवा उपलब्ध कराई गयी है। वे पहले वह अपनी दवा खर्च करेगा और आवश्यकता पड़ने पर ही सिविल सर्जन से अतिरिक्त एन्टी बायोटिक दवा की मांग करेगा।
उन्होंने कहा कि डीऑक्सीसाइक्लीन, आईभरमेक्टिन, रेमडेसिविर सहित जो भी एन्टी बायोटिक दवाएं हैं उस सभी पर नजर रखी जाएं।
उन्होंने सहायक औषधि नियंत्रक, दरभंगा को बिरौल, बेनीपुर सहित प्रखंड मुख्यालयों की दवा दुकानों का निरीक्षण करते रहने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि यदि दरभंगा में कहीं भी दवा की कालाबाजारी होती पाई जाती है तो सहायक औषधि नियंत्रक सीधे जिम्मेवार माने जाएंगे। उन्होंने कहा कि दवा के साथ-साथ ऑक्सीजन सिलेंडर पर भी नजर रखी जाए। इस पर उन्होंने संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी एवं पुलिस उपाधीक्षक को भी नजर रखने के निर्देश दिए।
बैठक में सिविल सर्जन डॉ. संजीव कुमार सिन्हा, उप निदेशक जन संपर्क नागेंद्र कुमार गुप्ता, जिला भू-अर्जन पदाधिकारी अजय कुमार, सदर अनुमंडल पदाधिकारी राकेश कुमार गुप्ता एवं डीपीएम विशाल कुमार उपस्थित थे।

Share

Check Also

कीमतों पर नियंत्रण के लिए बना नियंत्रण कक्ष

दरभंगा: जिलाधिकारी डॉ त्यागराजन एसएम के द्वारा जिले के व्यवसायी संघ एवं थोक विक्रेताओं के …