Home Featured बाढ़ एवं कोरोना को लेकर जाले एवं सिंहवाड़ा प्रखंड की समीक्षा बैठक में शामिल हुए मंत्री सह जाले विधायक।
4 weeks ago

बाढ़ एवं कोरोना को लेकर जाले एवं सिंहवाड़ा प्रखंड की समीक्षा बैठक में शामिल हुए मंत्री सह जाले विधायक।

दरभंगा: जिलाधिकारी डॉ त्यागराजन एसएम की अध्यक्षता में संबंधित पदाधिकारियों एवं जाले विधानसभा अन्तर्गत सिंहवाड़ा तथा जाले प्रखण्ड एवं अंचल के पदाधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठक की गई।
वर्चुअल बैठक में श्रम संसाधन एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग, बिहार सरकार के मंत्री-सह-जाले विधान सभा के विधायक जीवेश कुमार शामिल थे।
बैठक में जिलाधिकारी ने जाले प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी से पंचायतों में सैनिटाइजेशन एवं मास्क वितरण के संबंध में जानकारी ली।
प्रखंड विकास पदाधिकारी जाले ने बताया कि जाले प्रखंड में मास्क के वितरण का कार्य 60% हो गया है तथा सैनिटाइजेशन का कार्य 06 पंचायतों में पूर्णरूपेण तथा अन्य पंचायतों में कई वार्डों में कराया गया है।
जिलाधिकारी ने निदेशित किया कि जो गांव ज्यादा प्रभावित रहा है वहां सैनिटाइजेशन पहले करवाया जाए, बचे हुए पंचायतों का रोस्टर बनाकर सैनिटाइजेशन करा लिया जाए।
कम्युनिटी किचन के संबंध में जाले के प्रखंड विकास पदाधिकारी ने बताया कि प्रखंड परिसर में एक कम्युनिटी किचन चलाया जा रहा है, जिसमें प्रतिदिन 100 लोग खा रहे हैं, आज भी 75 लोगों ने खाना खाया।
मंत्री जीवेश कुमार द्वारा कमतौल में भी एक सामुदायिक किचन प्रारंभ करवाने का सुझाव दिया गया।
जिलाधिकारी ने कहा कि सामुदायिक किचन में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन किया जाए। जाले के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से कोरोना टेस्टिंग के संबंध में पूछने पर उन्होंने बताया कि प्रतिदिन 400 से 300 लोगों की टेस्टिंग हो रही है।
पीएचसी में 9:00 बजे से 1:00 बजे तक तथा रोस्टर बनाकर अन्य पंचायतों में 1:00 बजे के बाद टेस्टिंग कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन 200 एंटीजन टेस्ट और 60 आरटीपीसीआर टेस्टिंग कराने का लक्ष्य निर्धारित है।
जिलाधिकारी ने दूर-दराज वाले इलाकों में भी टेस्टिंग कराने के निर्देश दिए।
कोविड टीकाकरण के संबंध में जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी ने बताया कि जाले में 18 वर्ष से अधिक उम्र वालों  3,718 लोगों का तथा 45 वर्ष से ऊपर वाले 13,641 लोगों का टीकाकरण किया गया है। वहीं सिंहवाड़ा में 18 वर्ष से ऊपर वाले 3,876 तथा 45 वर्ष से ऊपर वाले 14,300 लोगों का टीकाकरण किया गया है।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि टीकाकरण एक्सप्रेस टीकाकरण के लिए निकाला गया है। जहां भी यह वाहन जा रहा है, वहां एक दिन पहले माइकिंग करा दें तथा स्थानीय जनप्रतिनिधियों से भी संपर्क कर लिया जाए। इस कार्यक्रम में ग्राम आवास सहायक, पंचायत सचिव व विकास मित्र को उपस्थित रखने और उनके माध्यम से लोगों को प्रोत्साहित करने का निर्देश दिया गया।
सिंहवाड़ा के प्रखंड विकास पदाधिकारी ने बताया  कि सिंहवाड़ा में 25 पंचायत है, जिनमे  4 लाख 30 हजार मास्क का वितरण कराया गया है और वहां के केवल 5 पंचायतों के कुछ वार्डों में ही मास्क वितरण किया जाना बाकी है।
उन्होंने कहा कि सैनिटाइजेशन का कार्य सिंहवाड़ा में पूर्ण रूप से संपन्न करा दिया गया है। सिंहवाड़ा के अंचलाधिकारी, सिंहवाड़ा ने बताया कि संस्कृत विद्यालय भरवाड़ा में सामुदायिक किचन चल रहा है तथा प्रतिदिन 40 से 45 लोग खाना खा रहे हैं। सिंहवाड़ा हाई स्कूल में भी किचन चलाने का सुझाव मंत्री द्वारा दिया गया।
सिंहवाड़ा के एमओआईसी ने बताया कि टेलीमेडिसिन से प्रतिदिन 10 मरीजों को सुझाव दिया जा रहा है।
एईएस के लिए बताया गया कि क्षेत्र में प्रचारित कराया जाए कि कोई भी बच्चा रात में खाली पेट ना सोए तथा रात में उन्हें कुछ मीठा चीज खिलाकर घर वाले सुलावें। इसका प्रचार-प्रसार आशा, एएनएम के माध्यम से कराया जाए। पंचायतवार एंबुलेंस टैगिंग किया गया है। एंबुलेंस वाले के साथ बैठक कर ली जाए। दवा की उपलब्धता के संबंध में बताया गया कि प्रखंड में सभी दवा उपलब्ध हैं। मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना के तहत दिए गए वाहनों को उसी पंचायत के साथ टैग करने के निर्देश दिया गया। ताकि एईएस के मामले मिलने पर उन्हें जल्दी पीएचसी में पहुंचाया जा सके।
मंत्री जीवेश कुमार ने कहा कि जोगियारा, घोगराहा व मुरैठा एपीएचसी ठीक से नहीं चल रहा है, वहां के अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को समुचित रूप से चलाया जाए।
जाले के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ने बताया कि मुरैठा एवं जोगियारा एपीएचसी के चिकित्सक डॉक्टर सुरेश ठाकुर जिला प्रतिरक्षण कार्यालय में प्रतिनियुक्त हैं। उन्हें वापस एपीएचसी भेजने का निर्देश दिया गया। जिलाधिकारी ने तीनों एपीएचसी में डॉक्टरों को वापस भेज कर चालू कराने के निर्देश सिविल सर्जन डॉ संजीव कुमार सिन्हा को दिया।
बाढ़ की तैयारी की समीक्षा में मंत्री जीवेश कुमार ने बताया कि उन्होंने अपनी निधि से जाले के लिए 05 तथा सिंहवाड़ा के लिए 05 नाव की अनुशंसा की है।
जिलाधिकारी ने बताया कि निविदा प्रकाशित हो गई है और जल्द ही नाव को क्रय करके दोनों अंचलों को दे दिया जाएगा। अंचलाधिकारियों से पूछे जाने पर जाले के अंचलाधिकारी ने बताया कि जाले में एक सरकारी नाव है तथा दो सरकारी नाव की मरम्मत कराई जा रही है। जाले में 389 पॉलिथीन सीट उपलब्ध हैं, गोताखोर चिन्हित कर लिए गए हैं तथा बाढ़ निरोधक व बाढ़ सहायता कार्य में लगाए जाने वाले 50% कर्मियों का टीकाकरण हो गया है। अन्य कर्मियों ने पूर्व में ही टीकाकरण करा लिया है।
दोनों प्रखंड विकास पदाधिकारी को सभी कर्मियों का शत-प्रतिशत टीकाकरण कराने के निर्देश दिए।
सिंहवाड़ा के अंचलाधिकारी ने बताया कि सिंहवाड़ा में 04 सरकारी तथा 35 प्राइवेट नाव हैं तथा 15 नाविकों से एकरारनामा कर लिया गया है। बारिश के कारण आज एकरारनामा नहीं हो पाया, नहीं तो सभी नाविकों के साथ एकरारनामा कर लिया जाता। उनके अंचल में 250 पॉलिथीन सीट उपलब्ध हैं, गोताखोरों को चिन्हित कर लिया गया है।
तटबंध के संबंध में मंत्री ने बताया कि जाले में खिरोई नदी के बाएं तटबंध के 10.5 किलोमीटर से 11.2 किलोमीटर तक में तथा दाँया तटबंध के 10.5 किलोमीटर से 10.9 किलोमीटर तक में मरम्मत की जानी थी।
इस संबंध में पूछने पर बाढ़ नियंत्रण विभाग, दरभंगा डिवीजन के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि दोनों तटबंध की मरम्मत एक ही योजना में शामिल है तथा 90% कार्य किया जा चुका है। 10 जून तक शत-प्रतिशत कार्य पूर्ण हो जाएगा।
मंत्री ने ध्यान आकृष्ट कराया कि महाराजी बांध के 03 किलोमीटर में काम नहीं हुआ है, जो आवश्यक है। कार्यपालक अभियंता ने बताया कि यह ड्रेनेज डिवीजन में पड़ता है।
जिलाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता को खराजपुर बांध की मरम्मति करवाने के निर्देश दिये।
मंत्री ने बताया कि सिंहवाड़ा प्रखंड के 05 पंचायत प्रतिवर्ष बागमती नदी में अधिक पानी आ जाने के कारण  बाढ़ प्रभावित हो जाती है, इस संबंध में संबंधित विभाग से बात करने की जरूरत है। बताया गया कि यह बाढ़ नियंत्रण विभाग, रुन्नीसैदपुर डिवीजन में पड़ता है।
बैठक में मंत्री ने सुझाव दिया कि बाढ़ के दौरान सभी अस्पतालों में ब्लीचिंग पाउडर एवं सांप काटने की दवा (एंटी वेनम इंजेक्शन) उपलब्ध रहनी चाहिए।  सिविल सर्जन ने बताया कि सभी अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में सांप काटने की दवा तथा ब्लीचिंग पाउडर उपलब्ध है।
मंत्री जीवेश कुमार के द्वारा बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के परिवारों के सर्वे कराने के सुझाव पर जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि यह कार्य विगत 01 महीना से जिले में चल रहा है और सभी लाभार्थियों का आधार अपडेशन कराया जा रहा है। साथ ही साथ उनका सत्यापन भी अंचलाधिकारी के माध्यम से कराया जा रहा है।
इस पर मंत्री ने प्रसन्नता जाहिर की साथ ही उन्होंने बैठक के अंत में जिलाधिकारी एवं जिला प्रशासन की टीम को लगातार बाढ़ व कोरोना के दौरान सराहनीय कार्य करने के लिए धन्यवाद ज्ञापन किया।
बैठक में अपर समाहर्त्ता विभूति रंजन चौधरी, सिविल सर्जन डॉ. संजीव कुमार सिन्हा, उप निदेशक जन सम्पर्क नागेंद्र कुमार गुप्ता, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. अमरेंद्र कुमार मिश्र, जिला पंचायत राज पदाधिकारी आलोक राज, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी मो. रिजवान, डीपीएम (हेल्थ) विशाल कुमार, डीपीएम (जीविका) मुकेश तिवारी सुधांशु उपस्थित थे।

Share

Check Also

ट्रैफिक पुलिस के एक सिपाही की लापरवाही से वीआईपी रोड में लगा जाम!

दरभंगा: ट्रैफिक के एक सिपाही की लापरवाही से बुधवार की दोपहर करीब तीन बजे वीआईपी रोड पर दोन…