Home Featured 11 सूत्री मांगों को लेकर मिथिला स्टूडेंट यूनियन ने दिया एकदिवसीय धरना।
2 weeks ago

11 सूत्री मांगों को लेकर मिथिला स्टूडेंट यूनियन ने दिया एकदिवसीय धरना।

दरभंगा: मिथिला स्टुडेंट यूनियन ने अपनी 11 सूत्री मांगों के समर्थन में सोमवार को लहेरियासराय स्थित धरना स्थल पर जिलाध्यक्ष अभिषेक कुमार के नेतृत्व में धरना दिया। मुख्य वक्ता यूनियन के राष्ट्रीय महासचिव गोपाल चौधरी ने कहा कि मिथिला की जनता की मांग मिथिला राज्य है। युवा अग्रसर होकर इस मुद्दे को उठाएं और मिथिला के विकास की राह प्रशस्त करें। उन्होंने कहा कि जिस क्षेत्र के गांव-गांव में कभी शिक्षा का केंद्र हुआ करता था, आज वहां के छात्र पलायन को मजबूर हो रहे हैं।

रोजगार के अभाव का दंश झेलने के लिए भी यह क्षेत्र कम मजबूर नहीं हो रहा। चीनी मिल, पेपर मिल, जूट मिल आदि यहां कबाड़ का ढेर मात्र बने हुए हैं। मिथिला की प्रतिभा रोटी के लिए विभिन्न प्रदेशों में मजदूरी करने को विवश है। संविधान की आठवीं अनुसूची में सम्मिलित बिहार की एकमात्र भाषा मैथिली की प्रगति में सोची-समझी राजनीति के तहत बाधा उत्पन्न किया जा रहा है।

इन मांगों की पूर्ति नहीं होने पर समिति आंदोलन को और धारदार बनाएगी। उन्होंने कहा कि दरभंगा की बहुप्रतक्षित मांग थी एयरपोर्ट, जो दरभंगा के युवाओं के अथक प्रयास से संभव हुआ परंतु आज भी बहुत प्रकार की खामियां हैं। इसे उजागर करने के लिए लम्बी लड़ाई लड़ी जाएगी। डीएमसीएच की स्थिति नारकीय है, जिसे एम्स बनाकर स्वास्थ की समस्या को दूर किया जा सकता है। इसके लिए अगले कुछ दिनों में चरणबद्ध आंदोलन किया जाएगा।

उनकी मांगों में तत्काल मिथिला राज्य व विकास बोर्ड का गठन, दरभंगा हवाई अड्डे को अंतरराष्ट्रीय दर्जा, मिथिला क्षेत्र को विशेष आर्थिक पैकेज, मिथिला क्षेत्र को पर्यटन क्षेत्र बनाने, दरभंगा एम्स का जल्द निर्माण आदि शामिल हैं। धरने में अनीश, नीरज, अर्जुन, गोपेश, रोहित, सोनू, प्रसून, ऋतुराज, भरत महापात्र, आदित्य मिश्रा, अविनाश कुमार, अविनाश मिश्रा, प्रनवेश झा, वेदांत वत्स, विवेकानन्द आदि थे।

Share

Check Also

19 से 25 मनेगा संस्कृत सप्ताह, पांच विशिष्ट विद्वान होंगे सम्मानित, छात्र भी होंगे पुरस्कृत।

दरभंगा: संस्कृत विश्वविद्यालय में 19 से 25 अगस्त तक संस्कृत सप्ताह का आयोजन होगा। इस दौरान…