Home Featured नवनिर्वाचित जन प्रतिनिधियों के उन्मुखीकरण कार्यक्रम का हुआ आयोजन।
2 weeks ago

नवनिर्वाचित जन प्रतिनिधियों के उन्मुखीकरण कार्यक्रम का हुआ आयोजन।

दरभंगा:  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में नवनिर्वाचित त्रिस्तरीय पंचायत जनप्रतिनिधियों के उन्मुखीकरण का उद्घाटन कार्यक्रम का आयोजन जिला, प्रखण्ड एवं पंचायत स्तर पर किया गया।

जिला स्तर पर यह कार्यक्रम जिला परिषद् के सभागार में जिलाधिकारी राजीव रौशन की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ जिलाधिकारी राजीव रौशन, माननीय जिला परिषद् अध्यक्ष रेणु देवी, उप विकास आयुक्त अम्रिषा बैंस एवं माननीय जिला परिषद् उपाध्यक्ष ललिता झा द्वारा दीप प्रज्जवलन कर किया गया।

इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि आज माननीय मुख्यमंत्री द्वारा पंचायती राज संस्थाओं के नवनिर्वाचित जनप्रतिनिधियों के उन्मुखीकरण कार्यक्रम का उद्घाटन किया जाएगा, जो एक ऐतिहासिक पल है। हमलोग जानते हैं कि हमारे संविधान में ग्राम स्वराज परिकल्पना को विशेष महत्व दिया गया है। 73वें संशोधन के द्वारा जो व्यवस्था लागू की गयी है, उसका उद्देश्य यह है कि विकास की किरण अंतिम व्यक्ति तक पहुँचे।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी का स्वप्न था, कि वास्तव में हम लोगतंत्र को मजबूत करना चाहते हैं, तो हम ग्राम स्वराज के संकल्प से ही इसे आगे बढ़ा सकते हैं और आज बिहार इस कड़ी में सबसे आगे है।

उन्होंने कहा कि बिहार वह पहला राज्य है, जहाँ पंचायती राज संस्थाओं में महिलाओं को 50 प्रतिशत् आरक्षण दिया गया। बिहार ने यह आदर्श स्थापित किया है कि किसी भी समाज को आगे ले जाने में महिलाओं की बड़ी भूमिका होती है। इस बात को विवेकानन्द जी ने अपनी उक्ति में कई बार दोहराया है।

पंचायती राज व्यवस्था को आगे ले जाने में हमारी  50 प्रतिशत् महिला सदस्य की बहुत बड़ी भूमिका है। आज पुस्तक के माध्यम से प्रशिक्षण कार्यक्रम होगा, बहुत सारी जानकारी दी जाएगी और आप सभी माननीय मुख्यमंत्री जी को भी सुनेंगे।

उन्होंने कहा कि वास्तव में जब जनता आपलोगों को अपने प्रतिनिधि के रूप में चुनकर भेजती है, तो उनका कुछ उद्देश्य होता है, वह आप में अपने क्षेत्र का विकास देखती है, वह देखती है कि हमारी किस प्रकार की समस्या है और उसका समाधान आपके द्वारा किस प्रकार किया जाएगा। आप तभी उनके स्वप्न को सकार कर सकते हैं, उनके विश्वास पर खड़ा उतर सकते हैं, जब आप पूरी प्रक्रिया को समझेंगे, अपने अधिकार एवं कर्तव्य को समझेंगे और उसको सभी दिशा में आगे ले जाकर विकास के लिए समर्पित होंगे।

उन्होंने कहा कि अभी राज्य में बहुत सारी चुनौतियाँ  हैं, कुरितियों पर लगातार प्रहार किया जा रहा है, चाहे वह मद्य निषेध हो, चाहे वह बाल विवाह, दहेज प्रथा मिटाने की बात हो, इन सबों में आप लोगों की बहुत बड़ी भूमिका होगी। आपको यह सुनिश्चित करना है कि जहाँ के आप प्रतिनिधि है, वहाँ पर सरकार के सामाजिक बदलाव को सामाजिक सरोकारों को आप किस प्रकार लागू करवाते हैं। साथ ही आपको अपने क्षेत्र में अशिक्षा को, बरोजगारी को हटाने के लिए भी लगातार प्रयास करना है। पाँच साल का समय जिसके लिए जनता आपको चुनकर भेजती है, उनके अपने सपने होते हैं। विकास ग्रामीण क्षेत्र के धरातल पर तभी उतरता है, जब हम बैठकर वहाँ विकास पर बात करते हैं।

इसके पूर्व उप विकास आयुक्त ने कहा कि प्रत्येक पाँच वर्ष पर नये सदस्यों का चुनाव होता है, उन्हें पंचायती राज संस्थाओं के नियम एवं प्रक्रियाओं की जानकारी आवश्यक है, इसी उद्देश्य से आज उनके उन्मुखीकरण के कार्यक्रम का शुभारंभ माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि जिस क्षेत्र से आप चुनकर आये हैं, उस क्षेत्र का विकास हो, इसके लिए सभी प्रकार की जानकारी आवश्यक है। इसलिए इस उन्मुखीकरण कार्यक्रम का लाभ उठावें।

माननीय उपाध्यक्ष ललिता झा ने कहा कि हम पंचायती राज संस्थाओं के विकास का कार्य शत्-प्रतिशत् करेंगे। उन्होंने पंचायती राज संस्था में महिलाओं को 50 प्रतिशत् आरक्षण देने के लिए माननीय मुख्यमंत्री जी का धन्यवाद ज्ञापन किया। माननीय अध्यक्ष रेणु देवी ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री ने महिलाओं का सशक्तिकरण किया है।

पटना के मुख्य सचिवालय सभाकक्ष में आयोजित कार्यक्रम से माननीय मुख्यमंत्री ने सम्बोधित करते हुए कहा कि जब हमारी सरकार आयी, तो शुरू से ही हमने पंचायती राज व्यवस्था को सुदृढ़ करने हेतु लगातार काम किया।

पंचायती राज व्यवस्था में राष्ट्रीय स्तर पर महिलाओं को एक तिहाई आरक्षण दिया गया है, हमने इसे 50 प्रतिशत् कर दिया। साथ ही अतिपिछड़ा वर्ग के लिए 20 प्रतिशत् अनुसूचित जाति के लिए 16% एवं अनुसूचित जनजाति के लिए 1% आरक्षण प्रधान किया गया है। साथ ही 10 वर्षों के बाद चुनाव क्षेत्र परिवर्तन की भी व्यवस्था की गई है, ताकि सभी इलाके में सभी लोगों को अवसर प्राप्त हो सके।

उन्होंने कहा कि सभी इलाके में सब को अवसर मिले, चाहे वह महिला हो, अतिपिछड़ा वर्ग, पिछड़ा वर्ग या अनुसूचित जाति हो क्रमशः सब को बारी बारी से अवसर प्राप्त होगा। ऐसा कोई क्षेत्र नहीं होगा, जहाँ सब को अवसर न मिले।

उन्होंने कहा कि 14वें वित्त आयोग में सिर्फ पंचायत के लिए राशि का प्रावधान किया गया था, जिला और प्रखंड पंचायत समिति व जिला परिषद के लिए राशिकी व्यवस्था नहीं थी, जिसे बिहार सरकार द्वारा बार बार उठाया गया और अब 15वें वित्त आयोग में जिला, प्रखंड और पंचायत तीनों के लिए राशि की व्यवस्था की गई है।

उन्होंने कहा कि उन्होंने कोशिश की है कि सभी निर्वाचित सदस्य को कुछ ना कुछ राशि प्राप्त हो, साथ ही कार्यकाल के दौरान उनकी मृत्यु होने पर उनके आश्रित को 05 लाख रूपये देने की भी व्यवस्था की गयी है।

Advertisement

उन्होंने कहा कि पंचायतों को सुदृढ़ करने हेतु पंचायत सरकार भवन बनवाया जा रहा है। 330 पंचायत सरकार भवन विश्व बैंक की सहायता से एवं 1435 व 1435 कुल 2870 राज्य सरकार की निधि से बनवाया जा रहा है। इस प्रकार कुल 3200 पंचायत सरकार भवन में से 1484 पंचायत सरकार भवन का निर्माण कार्य पूरा हो गया तथा 439 पर कार्य चल रहा है। इस वर्ष 2000 पंचायत सरकार भवन और बनाया जाएगा। बचे हुए पंचायतों में अगले वर्ष पंचायत सरकार भवन बनवाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि पंचायत सरकार भवन में सब तरह की सुविधा मिल रही है। हमारा प्रयास है कि गाँव का एक-एक आदमी सक्रिय हो।

2015 से सात निश्चय योजना के तहत हर घर में नल का जल, शौचालय बनवाया जा रहा है। नाली-गली पर काम हो रहा है। वैसे पंचायत जहाँ पानी में आयरन, आरसेनिक, फ्लोराईड है, वहाँ पी.एच.ई.डी. के माध्यम से पेयजल की समस्या का सामाधन करवाया जा रहा है।

नल-जल योजना में मैटेनेंस जरूरी है, इसके लिए अलग से 2000 रूपये की व्यवस्था की गयी है। अब सभी वार्डों में सोलर स्ट्रीट लाईट लगवाया जा रहा है। रात में सभी गाँव में प्रकाश रहेगा। पशुओं के ईलाज के लिए हर जगह व्यवस्था की जा रही है।

जनप्रतिनिधियों से आग्रह है कि इन सब चीजों को देंखे। महिलाओं की माँग पर ही शराब बन्दी लागू किया गया है। दहेज प्रथा, बाल विवाह जैसे कुरिति को समाप्त करना है। शराब पीने से 200 प्रकार की बीमारी होती है, दुनिया में जितनी भी मृत्यु होती है, उनमें से 5.3 प्रतिशत् मृत्यु शराब पीने से होती है।

20 वर्ष से 39 आयुवर्ग के 13.5 प्रतिशत् लोगों की मृत्यु शराब के कारण होती है। यह रिपोर्ट विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी किया गया है। जरा सोचिए यह समाज और स्वास्थ्य के लिए कितनी बुरी चीज है।

बापू ने कहा था – शराब आदमियों से ने सिर्फ उनका पैस छीन लेती है, बल्कि उनकी बुद्धि भी हर लेती है। बापू ने देश को आजाद कराया, उनकी बात तो माननी ही पड़ेगी।

उन्होंने कहा कि ताड़ी बेचने वालों के लिए सतत जीविकोपार्जन योजना लागू किया गया है। पासी समाज के लोग नीरा का उत्पादन करें। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि समाज में प्रेम और भाईचारा बना रहें। हम विकास के सभी क्षेत्रों में काम कर रहें है, चाहे वह सड़क हो, चाहे वह कृषि का क्षेत्र हो। आप सभी समाज के लिए काम करने हेतु चुनकर आये हैं, अपने दायित्व का सही से निर्वह्न करें, आपकी प्रतिष्ठा बढ़ेगी।

इस अवसर पर  उप मुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद,  उप मुख्यमंत्री रेणु देवी,  मंत्री, पंचायती राज विभाग सम्राट चौधरी, विकास आयुक्त विवेक कुमार सिंह ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव एस सिद्धार्थ एवं पंचायती राज विभाग के प्रधान सचिव मिहिर कुमार सिंह उपस्थित थे।

Share

Check Also

पार्षदों के आंदोलन के बाद कचरा उठाव टैक्स में हुआ बदलाव।

दरभंगा: वार्ड पार्षदों के आंदोलन के बाद दरभंगा नगर निगम द्वारा कचरा उठाव टैक्स में बदलाव क…