Home Featured आवास नहीं बनाने वाले को जीविका दीदी करेगी प्रेरित, मिलेगा पांच सौ मानदेय।
1 week ago

आवास नहीं बनाने वाले को जीविका दीदी करेगी प्रेरित, मिलेगा पांच सौ मानदेय।

दरभंगा: समाहरणालय अवस्थित बाबा साहेब डॉ० भीमराव अम्बेदकर सभागार में उप विकास आयुक्त, दरभंगा अम्रिषा बैंस की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना, आवास प्लस योजना, लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान, ठोस तरल अपशिष्ट प्रबंधन, तरल अपशिष्ट प्रबंधन, अमृत सरोवर एवं 309 पंचायतों के एक-एक सरोवरों पर स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर झण्डोत्तोलन कार्यक्रम की तैयारी, साथ ही उन सरोवरों पर एक-एक यूनिट वृक्षारोपण कार्यक्रम, मनरेगा के अन्तर्गत आँगनवाड़ी केन्द्र भवन का निर्माण, जल-जीवन-हरियाली अभियान को लेकर समीक्षा बैठक आयोजित की गयी।

बैठक में आवास प्लस योजना के अन्तर्गत वैसे प्रखण्ड जिनकी प्रगति लक्ष्य के अनुरूप नहीं रही, उन्हें चेतावनी देते हुए हर हाल में 15 अगस्त तक लक्ष्य पूर्ण करने का निर्देश दिया गया, निम्न प्रगति वाले प्रखण्डों में बिरौल, बहेड़ी, जाले, सिंहवाड़ा शामिल रहा।

Advertisement

उप विकास आयुक्त ने कहा कि आवास निर्माण के लिए प्रत्येक प्रखंड को जो दैनिक लक्ष्य निर्धारित है, उसे सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी हर हाल में पूरा करें। वर्ष 2016-17 से वर्ष 2020-21 तक की  अपूर्ण योजनाओं की सूची जीविका को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया।

जीविका के डीपीएम मुकेश तिवारी सुधाँशु ने बताया कि  बहेड़ी, सिंहवाड़ा, जाले, बेनीपुर, बिरौल, घनश्यामपुर और कुशेश्वरस्थान प्रखण्ड के वैसे 52 पंचायत, जहाँ पंचायत रोजगार सेवक नही है, उन पंचायतों में जीविका दीदी के माध्यम से कार्य कराने का निर्देश मिला है। इसके लिए वहाँ की दीदियों का प्रशिक्षण अगस्त माह के प्रथम सप्ताह में प्रारंभ हो जाएगा।

उप विकास आयुक्त ने कहा कि जिन लाभुकों को प्रथम किस्त की राशि उपलब्ध करायी जा चुकी है और उन्होंने आवास निर्माण नहीं कराया है, उनके घरों पर जीविका दीदी प्रतिदिन भ्रमण करें और उन्हें प्रेरित कर आवास निर्माण करावें, इसके लिए 500 रूपये का मानदेय भी उन्हें प्रदान किया जाएगा। साथ ही अन्य सभी प्रखंडों को भी अपनी सूची जीविका को उपलब्ध करवाने का निर्देश दिया गया।

लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान के फेज – 2 के अन्तर्गत दरभंगा जिले को अतिरिक्त 31 हजार शौचालय निर्माण का लक्ष्य दिया गया है, इसके लिए चिन्ह्ति लाभुकों की प्रविष्टि सीघ्र पोर्टल पर कराने का निर्देश दिया गया। साथ ही यह भी कहा गया कि एक ही परिवार को दुबारा लाभ न मिल जाए,इसे सुनिश्चित किया जाए।

ठोस तरल अपशिष्ट प्रबंधन के अन्तर्गत चिन्ह्ति 50 पंचायतों में कचरा संग्रहण की समीक्षा की गयी। पाया गया कि कई पंचायतों के कुछ वार्डों में ई रिक्शा के अभाव में डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण नहीं हो पा रहा है, इसके लिए संबंधित कार्यक्रम पदाधिकारी को ई-रिक्शा या पैडल रिक्शा शीघ्र क्रय कर संबंधित वार्ड को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया।

तरल अपशिष्ट के अन्तर्गत नालियों के मिलन स्थल पर जंक्शन चैम्बर निर्माण करने हेतु निर्धारित लक्ष्य 05 हजार इकाई एवं सामुदायिक सोक पीट निर्माण हेतु निर्धारित लक्ष्य 30 हजार इकाई के विरूद्ध प्रगति धीमी पाये जाने पर सभी कार्यक्रम पदाधिकारी को निर्देश दिया गया कि वे काम में तेजी लावें, क्योंकि 15 अगस्त के बाद 100 पंचायत और जुड जाएंगे।

आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर जिले के 75 चिन्हित अमृत सरोवरों एवं जिले के सभी 309 पंचायतों के एक-एक बड़े तालाब  पर स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर झण्डोत्तोलन कार्यक्रम की तैयारी की समीक्षा बारी-बारी से की गयी और सभी कार्यक्रम पदाधिकारी को इसके लिए फ्लैग पोस्ट निर्माण करवा लेने, उसकी रंगाई-पोताई करवा देने तथा तिरंगे की व्यवस्था जीविका के माध्यम से कर लेने, राष्ट्रगान के लिए स्थानीय स्कूल की छात्राओं को एवं झण्डोत्तोलन करने वाले वरिष्ट नागरिक को चिन्ह्ति कर लेने का निर्देश दिया गया।

बैठक में बताया गया कि झण्डोत्तोलन स्थल के समीप जल-जीवन-हरियाली एवं मनरेगा के साथ अमृत सरोवर का लोगो लगाया जाएगा। पौधारोपण की समीक्षा के दौरान बताया गया कि 09 अगस्त को मिशन – एक लाख के अन्तर्गत जिले में 01 लाख पौधारोपण किया जाएगा, इसके लिए जीविका द्वारा अपने 12 नर्सरी में तैयार किये गए 03 फीट से ऊपर के 01 लाख पौधे उपलब्ध होने की जानकारी दी गयी।

सभी कार्यक्रम पदाधिकारी को प्रत्येक तालाब, सड़क एवं सरकारी जमीन पर पौधारोपण करवाने का निर्देश दिया गया।

बताया गया कि मनरेगा के माध्यम से 11 आँगनवाड़ी भवन निर्माण करने का लक्ष्य मिला था, जिनमें से 07 में भवन तैयार हो जाने की जानकारी दी गयी। उप विकास आयुक्त ने बताया कि मनरेगा के अन्तर्गत निर्मित आँगनवाड़ी केन्द्रों को आदर्श आँगनवाड़ी केन्द्र बनाया जाए, जिसके लिए उन भवनों में अच्छी तरह प्ले स्कूल की तरह पेटिंग करायी जाए। उन्होंने कहा कि चापाकल रसोई के नजदीक हो, यह ध्यान रखा जाए।

बताया गया कि पुनः  22 आँगनवाड़ी भवन निर्माण के लिए जमीन मिल गयी है, उन जमीनों पर तेजी से आँगनवाड़ी भवन निर्माण करने के निर्देश दिये गए।

बताया गया कि 337 विद्यालयों में मनरेगा के द्वारा चाहरदिवारी निर्माण करने के लक्ष्य के विरूद्ध 257 में चाहरदिवारी का निर्माण करवा लिया गया है।

जल-जीवन-हरियाली योजना की समीक्षा के दौरान बताया गया कि मनरेगा द्वारा 05 एकड़ से कम वाले 290 तालाबों में काम शुरू किया गया, जिनमें से 243 में कार्य पूर्ण कर लिया गया है।

कुँओं के चिन्हीकरण एवं जीर्णोद्धार की समीक्षा में बताया गया कि 499 कुँआ का जीर्णोद्धार कराया जा चुका है। सोख्ता निर्माण, चेक डैम, खेत-पोखर निर्माण की समीक्षा भी की गयी।

छत वर्षा जल संचयन की समीक्षा में बताया गया कि भवन निर्माण विभाग द्वारा निर्धारित लक्ष्य 135 के विरूद्ध 125 में कार्य करा लिया गया है। शिक्षा विभाग ने बताया कि निर्धारित लक्ष्य 138 में 137 में कार्य पूर्ण कराया गया है।

उप विकास आयुक्त ने सभी संबंधित विभाग को किये गए कार्य की प्रविष्टि जल-जीवन-हरियाली पोर्टल पर करवाने के निर्देश दिए। सौर ऊर्जा की समीक्षा के दौरान बताया गया कि 13 योजनाओं में कार्य पूर्ण कराया जा चुका है।

बैठक में जैविक खेती, टपकन सिंचाई, पौधशाला की भी समीक्षा की गयी।

उक्त बैठक में डीआरडीए निदेशक गणेश कुमार, उप निदेशक, जन सम्पर्क नागेन्द्र कुमार गुप्ता, जिला पंचायती राज पदाधिकारी आलोक राज, परियोजना निदेशक, आत्मा पुणेन्दु नाथ झा, सहायक निदेशक, उद्यान आभा कुमारी, मनरेगा के डीपीओ अजय कुमार, सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, सभी कार्यक्रम पदाधिकारी एवं अन्य संबंधित पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

Share

Check Also

डीएसपी ने विश्वविद्यालय थानाध्यक्ष से मांगी दो भूमाफियाओं की जानकारी।

दरभंगा: दरभंगा शहर भूमाफियाओं के चंगुल में पूरी तरह जकड़ा हुआ है। जगह जगह तालाब भरकर बेच दि…