Home Featured वज्रपात की चपेट में आने से भैस चराने गए बुजुर्ग की मौत।
4 weeks ago

वज्रपात की चपेट में आने से भैस चराने गए बुजुर्ग की मौत।

दरभंगा: जिले के बिरौल थाना क्षेत्र के अकबरपुर बेक गांव में शुक्रवार की सुबह हुई बारिश के दौरान वज्रपात की चपेट में आने से एक बुजुर्ग की मौत घटनास्थल पर ही हो गयी। मृतक की पहचान गांव के ही वार्ड सदस्य संतोष आचार्य के 68 वर्षीय पिता कमलेश आचार्य के रूप में हुई है। घटना करीब छह बजे सुबह की बतायी जाती है।

Advertisement

परिजनों ने बताया कि रोज की तरह कमलेश सुबह करीब चार बजे भैंस चराने गांव से बाहर सपहा चौर गये थे। इसी दौरान तेज बारिश होने लगी। भैंस चरा रहे सभी लोग एक जगह पर बैठे हुए थे कि आकाशीय बिजली छिटकने लगी। सभी लोग अपनी भैंस को लेकर घर की ओर चलने लगे कि अचानक कमलेश के सिर पर वज्रपात हो गया और उन्होंने छटपटाकर वहीं पर दम तोड़ दिया। साथ में मवेशी चरा रहे शंभू झा एवं श्रीपति झा ने इसकी सूचना घर पर पहुंचकर परिजनों को दी। सूचना मिलते ही सभी लोग सपहा चौर की ओर दौड़े। गांव में इस हृदयविदारक घटना से कोहराम मच गया। मुखिया विश्वंभर पासवान ने इसकी सूचना सीओ देखकर मृतक के परिजनों को उचित मुआवजा देने की मांग की।

Advertisement

सूचना मिलते ही सीओ आदित्य शंकर एवं पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर सभी कागजी प्रक्रिया पूरी कर लाश को पोस्टमार्टम के लिए डीएमसीएच भेज दिया। सीओ ने बताया कि आपदा मद से आश्रितों को चार लाख रुपये का मुआवजा देने का प्रावधान है। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को अनुग्रह राशि दे दी जाएगी।

Advertisement

ग्रामीण व पैक्स अध्यक्ष दिलीप आचार्य ने बताया कि मृतक के दोनों भाई सुरेश आचार्य एवं दिनेश आचार्य एवं उसकी पत्नी तीर्थयात्रा पर गए हुए हैं। उसके बड़े बेटे अशोक आचार्य अपने पूरे परिवार के साथ दिल्ली में रह रहा है। परिजनों को घटना की जानकारी दी गई है। सभी लोग ट्रेन पकड़कर गांव के लिए रवाना हो गए हैं। उधर, इस घटना से गांव में शोक की लहर फैल गयी।

Share

Check Also

जीतन सहनी हत्याकांड में अभी और खुलेंगे राज, आरोपी को रिमांड पर लेने की तैयारी में पुलिस।

दरभंगा: वीआईपी सुप्रीमो मुकेश सहनी के पिता जीतन सहनी की हत्या मामले में अभी कई राज खुलने ब…