Home Featured पैतृक गांव में जयंती पर याद किए गए जनकवि बाबा नागार्जुन।
3 weeks ago

पैतृक गांव में जयंती पर याद किए गए जनकवि बाबा नागार्जुन।

दरभंगा: बिहार सरकार के कला एवं संस्कृति विभाग के तत्वावधान में रविवार को प्रखंड क्षेत्र के तरौनी गांव में जनकवि बाबा नागार्जुन पुस्तकालय परिसर में बाबा नागार्जुन का जयंती समारोह मनाया गया। इस अवसर पर बाबा के स्मृति में कई कार्यक्रम आयोजित किए गए। इस दौरान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए स्थानीय विधायक डॉ. विनय कुमार चौधरी ने बाबा के व्यक्तित्व एवं कृतित्व का बृहद चर्चा करते हुए उनके जीवन शैली पर प्रकाश डाला। साथ ही उन्होंने कहा कि बाबा को जो ख्याति और प्रतिष्ठा देश और दुनिया में प्राप्त हुई वह प्रतिष्ठा से अपने घर में सदैव वंचित रहे। उन्होंने हिंदी, मैथिली, संस्कृत एवं बंगला में समान रूप से अपनी रचना की, लेकिन उन्हें जो प्रतिष्ठा हिंदी में नागार्जुन के रूप में प्राप्त हुई वह ख्याति मैथिली में यात्री के रूप में नहीं मिल सकी। जबकि बाबा का प्रारंभिक लेखनी मैथिली में ही वैद्यनाथ मिश्र यात्री के रूप में प्रारंभ की। वैसे बाबा की प्रसिद्ध रचना में पत्रहीन नग्न गाछी, बलचनमा, पारो सहित अन्य शामिल है, जो बाबा को जन कवि के रूप में प्रतिष्ठित किया। उन्होंने कहा कि बाबा के समुचित सम्मान में वैसे तो विभिन्न राजनीतिक दलों ने अपनी घोषणा से अपनी राजनीतिक रोटी सेंकने का प्रयास किया, लेकिन बिहार के लोकप्रिय मुख्यमंत्री नीतीश कुमारने उनके जयन्ती को राजकीय दर्जा देकर जन-जन तक बाबा के व्यक्तित्व को पहुंचाने का प्रयास किया है। उन्होंने यात्री जी के जन्मतिथि को स्थानीय ग्रामीणों से संशय दूर करने का अनुरोध किया कि वास्तविक बाबा का जन्म तिथि 11 जून या 30 जून है। जिससे कि वास्तविक जन्म तिथि को ही समारोह आयोजित की जा सके। इस दौरान उन्होंने अपने ऐच्छिक कोष से बाबा के नाम पर भव्य सभागार निर्माण की घोषणा की। साथ ही ग्रामीणों से इसके लिए भूमि उपलब्ध कराने का अनुरोध किया। इस दौरान कार्यक्रम को संबोधित करते हुएअनुमंडल पदाधिकारी शंभुनाथ झा ने कहा कि बाबा के व्यक्तित्व का चर्चा करना सामान्य लोगों के वश से बाहर की बात है, लेकिन बाबा की समसामयिक कालजयी रचना आज भी आम लोगों के लिए प्रासंगिक है। बाबा की लेखनी और उनकी निर्भीकता की चर्चा की। इस अवसर पर प्रखंड प्रमुख चौधरी मुकुंद कुमार राय ने कहा कि कि जन कवि हमेशा सत्ता और शासन के विरुद्ध आम लोगों के लिए संघर्षरत रहे और उनके जयंती समारोह में अधिक से अधिक लोगों से भाग लेने की अपील की और उपस्थित लोगों को बधाई दी।

Advertisement

ज्ञात हो कि जनकवि बाबा नागार्जुन की जयंती समारोह को पिछले वर्ष से ही सरकार द्वारा राजकीय समारोह का दर्जा देकर भव्य रूप से मनाने की शुरूआत की गई। इस अवसर पर बाबा के कनिष्ठ पुत्र श्यामानंद मिश्र, लक्ष्मण झा, अंकु देवी, रेखा देवी, महादेव झा, पुनींद्र मिश्र, सुबोध चंद्र झा, अमित राय बिट्टू,पंचायत के मुखिया, उप मुखिया, पंचायत समिति सदस्य आदि उपस्थित थे। मंच संचालन संतोष कुमार मिश्रा ने किया।

Share

Check Also

जीतन सहनी हत्याकांड में अभी और खुलेंगे राज, आरोपी को रिमांड पर लेने की तैयारी में पुलिस।

दरभंगा: वीआईपी सुप्रीमो मुकेश सहनी के पिता जीतन सहनी की हत्या मामले में अभी कई राज खुलने ब…