Home Featured अगस्त से शुरू हो जाएगा भूमि सर्वेक्षण और बंदोबस्त का कार्य, तैयारी में जुटा विभाग।
2 weeks ago

अगस्त से शुरू हो जाएगा भूमि सर्वेक्षण और बंदोबस्त का कार्य, तैयारी में जुटा विभाग।

दरभंगा:  बिहार विशेष सर्वेक्षण और बंदोबस्त का काम एक अगस्त से शुरू कर दिया जाएगा। इसको लेकर बंदोबस्त विभाग पूरी तैयारी में जुटा है। विभाग की तरफ से प्रत्येक पंचायत स्तर पर शिविर का आयोजन किया जाएगा। उस शिविर में भू-धारियों को पहुंचकर जमीन संबंधित आवश्यक कागजात दिखाने होंगे। इसकी सूचना पहले से सभी अंचलों को दी जाएगी। ताकि वे अपने स्तर से क्षेत्र में इसे लेकर लोगों को जागरूक कर सके।

Advertisement

दरभंगा के 1252 गांव में फिर से विशेष सर्वेक्षण और बंदोबस्ती का काम शुरू होगा। इससे सभी जिलों के समाहतां सह बंदोबस्त पदाधिकारी, अपर समाहर्ता और भूमि सुधार उप समाहर्ता समेत अन्य को अवगत कराया गया है। इस दिशा में सभी प्रखंड में कार्ययोजना सभी प्रखंड को अविलंब की गई तैयारी के संबंध में रिपोर्ट देने को कहा गया है। विभाग के निदेशक ने इसके लिए गाइडलाइन जारी की है। उन्होंने कहा कि इस काम के लिए प्रत्येक अंचलों में एक-एक विशेष सर्वेक्षण और बंदोबस्त शिविर लगाया जाएगा। सभी शिविरों में एक-एक प्रभारी, दो सर्वेक्षण कानूनगो, दो लिपिक और अंचलों में प्रत्येक 4 राजस्व ग्राम के लिए एक विशेष सर्वेक्षण अमीन को पदस्थापित किया जाएगा।

Advertisement

विशेष सर्वेक्षण और बंदोबस्त का मुख्य उद्देश्य आधुनिक प्रौद्योगिकी की सहायता से डिजिटलाइजड ऑनलाइन अधिकार, अभिलेखों और मानचित्रों का संधारण, संरक्षण और अपडेशन की प्रक्रिया की निरंतरता को बनाए रखना है। इसके बाद बंदोबस्त प्रक्रिया अंतर्गत भूमि की प्रकृति और उपयोग के अनुसार रैयत वार लगान निर्धारण किया जाता है। बताया गया कि भू- अभिलेख और परिमाप निदेशालय द्वारा साल 2019 में विशेष सर्वेक्षण और बंदोबस्ती करने का आदेश जारी किया गया था। लेकिन कोविड-19 के प्रकोप से बीच में काम को बंद करना पड़ गया था।

Advertisement

करीब 4 सालों के बाद देबरा इस काम को शुरू कराने का आदेश जारी कर दिया गया है। विभागीय नियमानुसार, शिविर में भू-धारियों को जमाबंदी संख्या का ब्योरा, मालगुजारी रसीद की कापी, खतियान का नकल (अगर उपलब्ध हो तो) दावाकृत भूमि से संबंधित दस्तावेज का ब्योरा और आधार कार्ड की कापी के साथ शिविर में उपस्थित होना पड़ता है। इसके अलावा आवश्यकतानुसार मृत जमाबंदी रैयत का मृत्यु प्रमाणपत्र और वंशावली प्रपत्र भी भरकर जमा करना होगा। भूमि विवाद के मामले को देखते हुए सरकार ने विशेष सर्वेक्षण का कार्य कराया जा रहा है। इसमें सभी उपकरण उच्च तकनीकी से लैस होंगे।

Share

Check Also

जीतन सहनी हत्याकांड में अभी और खुलेंगे राज, आरोपी को रिमांड पर लेने की तैयारी में पुलिस।

दरभंगा: वीआईपी सुप्रीमो मुकेश सहनी के पिता जीतन सहनी की हत्या मामले में अभी कई राज खुलने ब…