Home Featured संगीत भाव को व्यक्त करने का बेहतरीन माध्यम : प्रो पुष्पम।
September 11, 2019

संगीत भाव को व्यक्त करने का बेहतरीन माध्यम : प्रो पुष्पम।

 

दरभंगा:सीएम कॉलेज,दरभंगा में चल रहे छह दिवसीय इंडक्शन प्रोग्राम के पांचवें दिन सभी विभागों के द्वारा विशेष व्याख्यान एवं रचनात्मक कार्यक्रम आयोजित किए गए। इस क्रम में स्नातकोत्तर समाजशास्त्र,संस्कृत,गणित तथा दर्शनशास्त्र के तत्त्वावधान में प्रथम सत्र में संगीत का हमारे जीवन में महत्व विषय पर विशेष व्याख्यान देते हुए विश्वविद्यालय संगीत एवं नाट्य विभाग की पूर्व अध्यक्षा प्रोफेसर पुष्पम नारायण ने कहा कि कला हमें जीवंत रखती है,इससे व्यक्ति में चमक आती है,जो उसे पहचान दिलाती है।संगीत ऐसी शक्ति है जो हमारे ध्यान को एकाग्र करती है तथा हमें अनुशासित कर हममें राष्ट्रीयता का भाव भरती है।संगीत भाव को व्यक्त करने का एक बेहतरीन माध्यम है।सभ्यता के विकास के साथ ही संगीत का भी विकास होता गया।आज यह हमारी शिक्षा एवं जीवन का अभिन्न अंग है। द्वितीय सत्र में योग विशेषज्ञ अनिल कुमार ने योग की महत्ता को बताते हुए कहा कि योग प्राचीन,प्रकृति एवं सरल जीवन-पद्धति है जो हमें स्वस्थ रखने में काफी मददगार है। यह हमारे शरीर की रोग निरोधक क्षमता को बढ़ाता है तथा शरीर और मन में संतुलन स्थापित करता है। हम योग को दैनिक जीवन में अपनाकर स्वस्थ एवं लंबी जीवन जी सकते हैं।उन्होंने प्राणायाम की महता को बताते हुए अनुलोम-विलोम, भ्रामरी,भस्त्रिका आदि प्राणायामों का अभ्यास कराया। कार्यक्रम का संचालन संस्कृत विभागाध्यक्ष डॉ आर एन चौरसिया, अतिथि स्वागत दर्शनशास्त्र विभागाध्यक्ष डा रुद्रकांत अमर तथा धन्यवाद ज्ञापन डॉ शशांक शुक्ला ने किया।इस अवसर पर प्रोफेसर विश्वनाथ झा,डॉ प्रभात कुमार चौधरी, डॉ राफिया काजीम आदि ने अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में एक सौ से अधिक छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।जयशंकर झा, सुजीत कुमार,संदीप कुमार,मन्नी कुमारी,नोशीन इम्तियाज आदि ने राष्ट्रीय एवं लोकगीत प्रस्तुत किया। कार्यक्रम के अंत में डॉ शशांक शुक्ला के नेतृत्व में छात्र-छात्राओं ने पुस्तकालय, जिम तथा महाविद्यालय के अन्य स्थलों का भ्रमण किया।
मनोविज्ञान विभाग में रिसोर्स पर्सन के रूप में विश्वविद्यालय मनोविज्ञान विभाग के अध्यक्ष डॉ ए के राय ने बच्चों के सीखने के गुण पर प्रकाश डाला और बताया कि आज के भागदौड़ के परिवेश में हम अपनी पढ़ाई को शेड्यूल कैसे करें, कैसे हम अपने मनी को इन्हांस करें और कैसे अपने समय का सदुपयोग करें। साथ ही बच्चों के उद्देश्य एवं लक्ष्य की प्राप्ति के गुण- रहस्य का परिचय कराया। दूसरे सत्र में महाविद्यालय के अंग्रेजी के प्राध्यापक डॉ अमरेंद्र शर्मा ने भाषाविज्ञान के मनोवैज्ञानिक पहलुओं पर प्रकाश डाला और बताया कि कैसे छात्र भाषा-विज्ञान के माध्यम से अपने व्यक्तित्व का विकास कर सकते हैं? बच्चों के अंदर भाषा का विकास कैसे होता है और इसका अनुप्रयोग कैसे कर सकते हैं? इसके साथ ही इसके महत्व पर प्रकाश डाला।तीसरे सत्र में एक्टिविटी के दौरान बच्चों से रोल प्ले कराया गया। अंतिम सत्र में छात्रों से उनके अनुभवों को साझा किया। सभी सत्रों में विभागाध्यक्ष डा नथुनी यादव,डॉ मो जिया हैदर,डा विजयसेन पांडे, डा एकता श्रीवास्तव एवं डा पुनीता कुमारी मौजूद रहे। धन्यवाद ज्ञापन सरस्वती तथा संचालन शृंखल ने किया। स्नातकोत्तर मैथिली विभाग के तत्त्वावधान में प्रो नारायण झा की अध्यक्षता में विशेष सत्र हुआ,जिसमें तनाव व मनोविकारों के कारण,प्रभाव तथा निदान पर विस्तृत विचार-विमर्श हुआ।अशांत मन, अस्थिर भावना तथा अस्वस्थ शरीर के कारणों का निदान बताया गया। कार्यक्रम में डॉ अभिलाषा कुमारी तथा प्रो रागिनी रंजन ने भी अपने विचार व्यक्त किए। स्नातकोत्तर राजनीति विज्ञान विभाग में डॉ गिरीश कुमार की अध्यक्षता में कार्यक्रम हुआ,जिसमें डॉ प्रभात कुमार चौधरी ने विशेष ध्यान दिया। वही स्नातकोत्तर अर्थशास्त्र विभाग में डॉ नारायण झा ने विशेष व्याख्यान दिया। कार्यक्रम में प्रो रमन बिहारी लाल,प्रो शिप्रा सिन्हा, प्रो विकास कुमार तथा डॉ रीना कुमारी आदि ने भाग लिया। अंग्रेजी विभाग के तत्त्वावधान में आयोजित क्विज प्रतियोगिता का कृष्णा नंद मिश्र में बहुत ही दक्षतापूर्वक संचालन किया। कार्यक्रम का उद्घाटन प्रो इंदिरा झा, विभागाध्यक्षा, अंग्रेजी ने किया तथा प्रो मंजू राय ने स्वागत भाषण किया। डॉ तनिया कुमारी ने क्विज प्रतियोगिता में स्कोरर की भूमिका निभाते हुए धन्यवाद ज्ञापन किया।डॉ अमरेंद्र कुमार शर्मा ने कार्यक्रम को सफल बनाने में सक्रिय भूमिका निभाई।प्रधानाचार्य डा मुश्ताक अहमद ने सफल प्रतिभागियों के बीच प्रमाण पत्रों तथा पुरस्कार का वितरण किया। बी ए डिग्री वन में प्रथम,द्वितीय व तृतीय स्थान पर क्रमशः जया कुमारी, साहिबा मुशर्रफ और रामकुमार तथा पीजी सेमेस्टर वन में चंद्रशेखर साहू,अमन कुमार,मनीष कुमार क्रमशः प्रथम,द्वितीय तथा तृतीय स्थान पर रहें। कार्यक्रम में 100 से अधिक छात्र छात्राओं ने भाग लिया।

Share

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

तालाबों के अतिक्रमणकारियों के विरुद्ध शुरू हुआ अभियान, हराही पोखर को कराया गया अतिक्रमणमुक्त।

दरभंगा: जिलाधिकारी डाॅ0 त्यागराजन एसएम के निर्देश पर नगर आयुक्त घनश्याम मीणा एवं नगर पुलिस…