Home Featured हड़ताली शिक्षकों का धरना प्रदर्शन 17वें दिन भी रहा जारी, प्रखण्डों में दिख रहा असर।
March 4, 2020

हड़ताली शिक्षकों का धरना प्रदर्शन 17वें दिन भी रहा जारी, प्रखण्डों में दिख रहा असर।

दरभंगा: बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर प्राथमिक शिक्षकों की चल रही 17वें दिन हड़ताल का व्यापक असर सभी प्रखंड में देखा गया। शिक्षकों ने सभी प्रखण्ड संसाधन केंद्रों एवं बीआरसी पर अपनी मांगों के समर्थन में धरना दिया। मनीगाछी प्रखण्ड के बीआरसी पर आहूत धरना को संबोधित करते हुए बिहार राज्य प्रारम्भिक शिक्षक संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष सह जिलाध्यक्ष शम्भु यादव ने कहा कि शिक्षक न केवल अपने अधिकारों के लिए आज संघर्षरत है, बल्कि वे शिक्षा को बचाने की भी लड़ाई लड़ रहे हैं। सरकार सदन से लेकर समाज तक शिक्षकों की दक्षता को लेकर बदनाम करने पर तुली है। समाज को भी सोचना होगा कि आखिर वे क्या कारण है कि सरकारी विद्यालयों में दक्षता और पात्रता उत्तीर्ण शिक्षकों के नियोजन के बाद भी बिहार में शिक्षा का स्तर गिरा है। सरकार ने विद्यालयों को शिक्षालय के स्थान पर पब्लिक सर्विस सेंटर बनाकर छोड़ दिया है। इन्हें गैर शैक्षणिक कार्यो में उलझा कर रखते है, ताकि गरीब एवं निर्धन समाज के बच्चे अशिक्षित रहें। उन्होंने कहा कि हमलोगों केवल लड़ाई आने वाले पीढ़ी के लिए है, ताकि कल अगर समाज का कोई होनहार छात्र शिक्षक बने, तो उसे वह सम्मान मिले जिसके वह लायक है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि यह दुर्भाग्य है कि बिहार के उपमुख्यमंत्री को यह तक नहीं पता है कि डॉक्टर मरीज का आॅपरेशन करते है न की मरीज डॉक्टर का और वहीं लोग कह रहे हैं कि सरकार के पास पैसे नहीं हैं। जबकि सरकार हजारों करोड़ रुपए एक ही काम को कई बार करने के लगा देती है। इसबार शिक्षक ऐतिहासिक लड़ाई लड़ रहे है और अपनी मूल मांग से एक कदम भी पीछे हटने के लिए तैयार नहीं है। कार्यक्रम की अध्यक्षता संघ के प्रखण्ड अध्यक्ष अरुण यादव ने की। कार्यक्रम को अजिया फिरदोस, विजय कुमार कर्ण, चन्द्रवीर नारायण, सुरेश साफी, जितेंद्र कुमार, सीमा कुमारी, सरविन्द कुमार झा, सतीश पौद्दार, रेखा कुमारी, बुद्धदेव यादव, धर्मराज सिंह, टीईटी एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक गोपगुट के प्रखण्ड अध्यक्ष अमित कुमार, सचिव महाराज शैलेन्द्र कुमार, शाहीन यास्मीन, मोसरत प्रवीण, सत्येंद्र कुमार झा, मुकेश यादव समेत कई शिक्षको ने संबोधित किया।

Share

Leave a Reply

Check Also

प्रमंडलीय आयुक्त की पहल से छत्तीसगढ़ के दुर्ग में फँसे दरभंगा के मजदूरों मिली मदद।

दरभंगा: लॉकडाउन के दौरान भारत के किसी भी कोने में फंसे श्रमिकों को किसी तरह की परेशानी ना …