Home Featured अभाव में भी होनहारों ने दिखा दिया कि सफलता सिर्फ मेहनत से मिलती है, सुविधाओं से नहीं।
3 weeks ago

अभाव में भी होनहारों ने दिखा दिया कि सफलता सिर्फ मेहनत से मिलती है, सुविधाओं से नहीं।

दरभंगा: आज के समय में हर कोई सुख सुविधाओ की चाह रखता है। लेकिन इस सुख सुविधाओं के लिए मेहनत से गुजरना पड़ता है। इस बार बोर्ड के परीक्षा परिणाम में बच्चों ने बता दिया कि सफलता अगर प्राप्त करनी है तो उसके लिए जी तोड़ मेहनत करनी जरूरी है। दरभंगा के ग्रामीण अंचलों में अभावों की जिंदगी के बीच बच्चों ने साबित कर दिया कि अगर चाह है तो आप किसी भी मुकाम पर पहुंच सकते है। बोर्ड के परीक्षा परिणामों में सरकारी स्कूल के बच्चों ने ना सिर्फ अच्छे अंक प्राप्त किए बल्कि सर्वाधिक अंक लाकर अपने परिजनों का सीना गर्व से चौड़ा भी कर दिया।

Advertisement

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा आयोजित मैट्रिक परीक्षा में उघड़ा गांव के बिहारी राम के पुत्र बिरजू राम ने मैट्रिक परीक्षा में 456 अंक लाकर अपने गांव एवं इलाके का नाम रोशन किया है। छात्र ने अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता एवं अपने गुरु को दिया है।

अपने घर पर कठिन परिश्रम में सिर्फ अपने पढ़ाई को प्राथमिकता देता था। वह इंजीनियर बनकर अपने समाज में एक ऊंची पायदान हासिल करना चाहता है। छात्र ने बताया कि पढ़ाई में सबसे अधिक सहयोग हमारे कोचिंग टीचर शुशील कुमार का रहा है। छात्र ने आगे बताया कि हम घर के कामकाज देखकर भी पढ़ाई से कभी दूर नहीं होता था। उसके पिता ने बताया कि हमारे पुत्र ने जिस तरह जिले में बेहतर अंक लाकर मनोबल को ऊंचा किया है।

Advertisement

वहीं क्षेत्र के जिप सदस्य सुमित्रा देवी और माले नेता हरी पासवान ने छात्र बिरजू के घर पर पहुंच कर मिथिला के परंपरागत परिधान पाग, चादर और ग्यारह सौ रुपए का प्रोत्साहन राशि देकर सम्मानित किया। इस दौरान जिप सदस्य ने बताया कि सफलता सुविधाओं की मोहताज नहीं होती, अगर लगन के साथ लक्ष्य को हासिल करने के लिए मेहनत की जाए तो सफलता निश्चित मिलती है। उन्होंने बताया कि मजदूर का पुत्र होते हुए भी जिस प्रकार से अभाव के बीच प्रभाव दिखाया है। वह काबिले तारीफ है। उन्होंने कहा कि बिरजू के इस सफलता से प्रत्येक बच्चे को सिख लेने की आवश्यकता है। उन्होंने बिरजू के उच्चतर शिक्षा के लिए हरसंभव सहायता करने का आश्वन दिया।

वहीं इस अवसर पर कृष्णा कोचिंग संस्थान के संचालक शुशील कुमार ने बताया कि बिरजू अत्यंत ही मेहनती छात्र हैं। उनके परिवार की आर्थिक स्थिति कमजोर है। लेकिन उन्होंने बिरजू के ऊपर उसका बोझ नहीं पड़ने दिया। श्री कुमार ने बताया कि उनके कोचिंग में 2023 के मैट्रिक परिक्षा में कुल 42 छात्र शामिल हुए, जिसमे 28 छात्रों ने प्रथम और 14 छात्रों ने द्वितीय स्थान लाकर कोचिंग का नाम रौशन किया है।

इस अवसर पर भिखारी राम, अरुण पासवान, लखी पासवान, रामसागर मंडल, मनोज पासवान आदि मौजूद रहे।

Share

Check Also

पांच दिनों तक प्रचंड लू की संभावना, मौसम विभाग ने जारी की एडवाइजरी।

दरभंगा: 20 से 24 अप्रैल तक लोगों को तेज धूप व लू का सामना करना पड़ेगा। मौसम विभाग ने इसको …