Home Featured ठेका संविदा कर्मचारियों को सरकारी सेवक घोषित करने सहित अन्य मंगों को लेकर प्रदर्शन।
3 weeks ago

ठेका संविदा कर्मचारियों को सरकारी सेवक घोषित करने सहित अन्य मंगों को लेकर प्रदर्शन।

दरभंगा: बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ की जिला शाखा ने राज्य सरकार द्वारा ठेका संविदा कर्मचारियों को सरकारी सेवक घोषित करने, बिहार सरकार के रिक्त पदों पर नियमित नियुक्ति सहित विभिन्न मांगों के समर्थन में गुरुवार को कलेक्ट्रेट के समक्ष प्रदर्शन किया। साथ ही सरकार के आदेश की प्रति को जलाकर विरोध जताया। महासंघ के सदस्य 50 वर्ष की उम्र पूरा कर चुके कर्मचारियों को आरोप लगाकर जबरिया सेवा अनिवार्य सेवानिवृत्त करने सम्बन्धित सभी काला कानून वापस लेने की मांग कर रहे थे।

प्रदर्शनकारियों का जत्था लहेरियासराय स्थित धरना स्थल से प्रस्थान कर आयुक्त कार्यालय, कलेक्ट्रेट, टावर चौक का भ्रमण कर कलेक्ट्रेट के मुख्य द्वार पर पहुंचा जहां जिला अध्यक्ष अशोक कुमार झा की अध्यक्षता में रैली की गयी। महासंघ के संयुक्त मंत्री तारा कांत पाठक ने कहा कि राज्य सरकार ने ठेका संविदा के कर्मियों के लिए जो परिपत्र निर्गत किया गया है, वह पूर्ण तानाशाही है। परिपत्र में कहा गया है कि जिस स्थायी पद के विरुद्ध ठेका संविदा पर कार्य कर रहे हैं तो उन्हें नियमित नियुक्ति में अधिमंता दी जाएगी।

ज्ञातव्य हो कि ठेका संविदा वाले कर्मी सभी अस्थायी पद पर यथा किसान सलाहकार, आवास सहायक, रोजगार सेवक, सभी कार्यपालक सहायक, कंप्यूटर ऑपरेटर के पद पर कार्यरत हैं उन्हें स्थायी पद के नियुक्ति में अधिमान्यता नहीं मिल पाएगी। ठेका संविदा वाले कर्मियों को सरकार ने सरकारी सेवक नहीं माना है, जो घोर अन्याय है। सरकार ने काला कानून लाकर 50 वर्ष के उम्र पूरा कर चुके कर्मियों के खिलाफ यदि शिकायत होगी तो उन्हें जबरिया सेवानिवृत्त करा दिया जाएगा, यह आदेश तानाशाही शासक का प्रतीक है। सभा को कर्मचारी महासंघ के नेता मो. इलताफ अहमद, तेज नारायण यादव, अश्विनी कुमार झा, शंभू नाथ झा, दुर्गा शंकर झा, विष्णु देव पासवान, राजदेव यादव, पवन झा, राहुल कुमार, राज कुमार पासवान आदि ने संबोधित किया।

Share

Check Also

दिवंगत शिक्षक की श्रद्धांजलि सभा उमड़ा जनसैलाब।

दरभंगा: रविवार को बहादुरपुर प्रखंड के फेकला चौक पर दिवंगत शिक्षक सह निजी शिक्षा संघ के सक्…