Home Featured राष्ट्रीय मांग दिवस पर आंगनबाड़ी सेविका-सहायिकाओं ने 14 सूत्री मांगों को लेकर किया प्रदर्शन।
3 weeks ago

राष्ट्रीय मांग दिवस पर आंगनबाड़ी सेविका-सहायिकाओं ने 14 सूत्री मांगों को लेकर किया प्रदर्शन।

दरभंगा: अखिल भारतीय संगठन ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ आंगनवाड़ी वर्कर एंड हेल्पर (आईफा ) के राष्ट्रव्यापी आह्वान पर केंद्रीय श्रमिक संगठन सी आईटीयू से संबद्ध बिहार राज्य आंगनबाड़ी सेविका सहायिका संघ की दरभंगा जिला की ओर से राष्ट्रीय मांग दिवस के अवसर पर अपने 14 सूत्री मांगों के पूर्ति के लिए मुख्यमंत्री को प्रेषित ज्ञापन जिलाधिकारी दरभंगा को सौंपा! इस अवसर पर प्रातः से ही दरभंगा जिला के विभिन्न परियोजनाओं में कार्यरत आंगनवाड़ी सेविका सहायिका लहरिया सराय स्थित कर्मचारी विश्राम गृह, महासंघ कार्यालय में पहुंचने लगे। दोपहर में एकत्रित होकर सभी सेविका एवं सहायिकाओं ने महासंघ कार्यालय से जुलूस एवं प्रदर्शन निकाला जो समाहरणालय होकर लहेरियासराय टावर चौक से वापस होते हुए पुनः समाहरणालय के गेट नंबर 2 पर आकर एकत्र हो गए।

प्रदर्शन का नेतृत्व बिहार राज्य आंगनबाड़ी सेविका सहायिका संघ के जिला मंत्री शाहीन परवीन, कर्मचारी नेता फूल कुमार झा एवं सी आई टी यू के बिहार राज्य कमेटी सदस्य सत्य प्रकाश चौधरी संयुक्त रूप से कर रहे थे! प्रदर्शन कर रहे आंगनबाड़ी सेविकाओं एवं सहायिकाओं को संबोधित करते हुए कर्मचारी नेता फूल कुमार झा ने कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकार के अनुभवहीन स्वास्थ्य नीति के कारण कोविड-19 में कोरोना काल में प्रतिनियुक्त रहने के कारण तथा कोरोनावायरस से संक्रमित होने के फलस्वरूप देशभर में हजारों सेविका एवं सहायिका असमय काल के गाल में समा गई, परंतु राज्य एवं केंद्र की मजदूर विरोधी सरकार ने उनकी कोई सुधि नहीं ली।
केंद्रीय श्रमिक संगठन सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन सीटू के बिहार राज्य कमेटी सदस्य सत्य प्रकाश चौधरी ने कहा कि राज्य सरकार आईसीडीएस को निजी हाथों में सौंप देना चाहती है जिसे किसी भी कीमत पर होने नहीं देंगे, क्योंकि यह देश के नौनिहालों के पोषण से जुड़ा मसला है। उन्होंने केंद्र सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि आखिर दस्को बीत गए केंद्र सरकार ने सेविका एवं सहायिकाओं के मानदेय में केंद्र की ओर से कोई भी बढ़ोतरी क्यों नहीं की? किस कारण से केंद्रीय बजट में आईसीडीएस के लिए आवंटन को प्रत्येक वर्ष कम किया जा रहा है? उन्होंने मांग किया कि आईसीडीएस को स्थाई किया जाए एवं कार्यरत सभी आंगनबाड़ी सेविका एवं सहायिका की नौकरी को नियमित करते हुए अंतरराष्ट्रीय श्रम सम्मेलन में तय किए गए सिफारिश जिसमें न्यूनतम वेतन ₹21000 प्रतिमाह पेंशन, भविष्य निधि एवं ग्रेच्युटी के साथ-साथ अन्य लाभ को अविलंब लागू किया जाय। बिहार राज्य आंगनबाड़ी सेविका सहायिका संघ की जिला मंत्री शाहीन परवीन ने सेविकाओं पर हो रहे दमन एवं शोषण पर रोक लगाने की मांग करते हुए कहा कि विभिन्न परियोजनाओं में सेविका एवं सहायिका की अवैध चयन मुक्ति आदेश को निरस्त किया जाए साथ ही चयन मुक्ति के प्रक्रियाओं पर रोक लगाई जाए तथा आंगनबाड़ी केंद्रों का विलय स्कूलों में नहीं किया जाए, सभी लंबित वेतन राज्य और केंद्र के मकान का किराया तथा अन्य भत्तों का भुगतान अविलंब किया जाए एवं पोषण ट्रैकर तथा ओटीपी प्रणाली को बंद किया जाए! अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के दरभंगा जिला के संयुक्त मंत्री अरविंद कुमार राय ने कहा कि राष्ट्रीय मांग दिवस के अवसर पर चट्टानी एकता को प्रदर्शित करते हुए संघर्ष को और तेज करना है ! अपने 14 सूत्री मांगों का ज्ञापन जिलाधिकारी कार्यालय को चार सदस्यों का प्रतिनिधिमंडल में जाकर सौंपा! इस अवसर पर ज्योति देवी, सोनी कुमारी ,श्यामा देवी, रेणु देवी, रिफत जहां, नीलम कुमारी, अनिता देवी एवं शिव कुमारी देवी ने आंदोलनरत सेविकाओं एवं सहायिकाओं को संबोधित करते हुए उनका क्रांतिकारी अभिवादन किया ! दरभंगा जिला के विभिन्न परियोजनाओं से दर्जनों की तादाद में सेविकाओं एवं सहायिकाओं ने प्रदर्शन में भाग लेकर राष्ट्रीय मांग दिवस के कार्यक्रम को सफल बनाया!

Share

Check Also

19 से 25 मनेगा संस्कृत सप्ताह, पांच विशिष्ट विद्वान होंगे सम्मानित, छात्र भी होंगे पुरस्कृत।

दरभंगा: संस्कृत विश्वविद्यालय में 19 से 25 अगस्त तक संस्कृत सप्ताह का आयोजन होगा। इस दौरान…