Home Featured वैक्सीन का पहला डोज रजिस्टर्ड नही होने के कारण दूसरा डोज लेने पहुंचे कई लोगों को लौटना पड़ा वापस।
2 weeks ago

वैक्सीन का पहला डोज रजिस्टर्ड नही होने के कारण दूसरा डोज लेने पहुंचे कई लोगों को लौटना पड़ा वापस।

दरभंगा: कोविड टीकाकरण का लक्ष्य जल्द से जल्द हासिल करने केलिए सरकार द्वारा युद्धस्तर पर कार्य किया जा रहा है। जिले में केंद्रों की संख्या भी लगातार बढ़ायी जा रही है। पर स्वास्थ्य कर्मियों की लापरवाही इस अभियान को जब तब प्रभावित करता नजर आता रहता है। ताजा मामला गुरुवार को शहर के वार्ड 45 अवस्थित +2 पूर्वांचल उच्च विद्यालय में बने टीकाकरण केंद्र पर सामने आया है। दरअसल वैक्सीन लेने वालों का पहला डोज रजिस्टर्ड नही होने वाले कई लोगों को दूसरा डोज लिए बिना केंद्र से वापस लौटना पड़ा।
प्राप्त जानकारी के अनुसार शहरी क्षेत्र अंतर्गत वार्ड 45 के राय साहब पोखरा अवस्थित +2 पूर्वांचल उच्च विद्यालय में बने वैक्सिनेशन सेंटर पर गुरुवार को करीब दो दर्जन के लोगों को वैक्सीन का दूसरा डोज लेने से वंचित होना पड़ा। सरकारी रिकॉर्ड के मुताबिक उनके पहले डोज लेने की इंट्री नही रहने के कारण उन्हें दूसरे डोज की बजाय पहला ही डोज लेने की इंट्री करने की बात कही जा रही थी।
पहला डोज ले चुके लोगों का कहना था कि गत 11 अप्रैल को उन्होंने नवटोलिया स्थित पूर्व महापौर के आवास पर वैक्सीन का पहला डोज लिया था। उनके मोबाईल पर पहले डोज लेने संबंधित कोई मैसेज नही आया था। लेकिन दूसरी डोज के लिए जब गुरुवार को वैक्सिनेशन सेंटर पहुंचे हैं तो उन्हें दूसरी डोज की जगह पुनः पहला ही डोज लेने की इंट्री किये जाने की बात कही गयी। उनका कहना था कि ऐसे में उन्हें वैक्सिनेशन का फाइनल सर्टिफिकेट लेने हेतु तीन डोज लेना पड़ेगा,कारण पहले डोज की इंट्री सरकारी रिकॉर्ड में है ही नही।
सेकेंड डोज लेने से वंचित लोगों ने मौके पर मौजूद स्थानीय वार्ड पार्षद देवकृष्ण झा ‘कोमल’ के समक्ष अपना आक्रोश व्यक्त किया। वार्ड पार्षद ने वस्तुस्थिति की जानकारी तत्काल डीआईओ को दिया। पार्षद श्री झा के मुताबिक डीआईओ ने कहा कि गत 11 अप्रैल को स्वास्थ विभाग की जिस टीम ने वैक्सीन दिया है उनके कम्प्यूटर ऑपरेटर व एएनएम के पास सारी जानकारी होंगी। उससे संपर्क कर उन्हें आधार नम्बर व रजिस्टर्ड नम्बर देने पर समस्या का समाधान हो जाएगा।
वार्ड पार्षद ने डीआईओ द्वारा दी गयी जानकारी जब लोगों को दी गयी तो वे आक्रोशित हो उठे। उन्होंने कहा कि कौन सी टीम थी,इसका पता करना उनसे कैसे संभव हो पाएगा?
नवटोलिया निवासी कैलाश साह की पत्नी रेखा देवी,शिवनाथ साह, बलभद्रपुर निवासी रामचंद्र महतो, सुनीला देवी व संगीता मिश्रा सहित कई लोग निराशा के साथ दूसरी डोज लिए बिना वैक्सिनेशन सेंटर से लौटने को मजबूर हो गए।

Share

Check Also

19 से 25 मनेगा संस्कृत सप्ताह, पांच विशिष्ट विद्वान होंगे सम्मानित, छात्र भी होंगे पुरस्कृत।

दरभंगा: संस्कृत विश्वविद्यालय में 19 से 25 अगस्त तक संस्कृत सप्ताह का आयोजन होगा। इस दौरान…