Home Featured बेनीपुर के नवादा में देवी के सिंहासन की होती है पूजा, ग्रामीणों में प्रचलित है अनोखी कथा।
2 weeks ago

बेनीपुर के नवादा में देवी के सिंहासन की होती है पूजा, ग्रामीणों में प्रचलित है अनोखी कथा।

दरभंगा: जिला मुख्यालय से करीब 30 किमी दूर बेनीपुर प्रखंड के नवादा दुर्गा मंदिर जिले के सिद्धपीठाें में से एक है। यहां कि सबसे बड़ी खासियत यह है कि यहां मां दुर्गा हयहट देवी के सिंहासन की पूजा हाेती है। जबकि इस सिंहासन पर विराजमान मूर्ति की पूजा नवादा भगवती स्थान से करीब 10 किमी दूर बहेड़ी प्रखंड के हावीडीह गांव में होती है। इन दोनों देवी स्थल पर चारों नवरात्रा में मां दुर्गा की विशेष पूजा हाेती है। लेकिन शारदीय नवरात्रा का विशेष महत्व है।

जानकारों के मुताबिक 52 सिद्ध पीठाें में नवादा दुर्गा स्थान में स्थापित मां की सिंहासन है। स्थानीय लोगों के मुताबिक सती का वाम स्कन्ध इसी जगह गिरा है। जिसका वर्णन देवी भागवत पुराण व मत्स्य पुराण में भी है। जिसके अनुसार सती का वाम स्कन्ध इसी जगह पर गिरा है।

जानकारों के मुताबिक राजा हयहट्ट ने नवादा में मां जगदम्बा की मूर्ति स्थापित की थी। बहेड़ी प्रखंड के हावीडीह गांव का एक भक्त प्रतिदिन त्रिमुहानी स्थित कमला नदी पार कर मां भगवती की पूजा अर्चना करने नवादा पहुंचता था। एक दिन वह भगवती की प्रतिमा अपने साथ हावीडीह लेकर चला गया और गांव में प्रतिमा स्थापित कर दी।

नवादा गांव के ग्रामीणों को जब इसकी जानकारी मिली तो ग्रामीणों ने बैठक कर हावीडीह गांव से प्रतिमा वापस लाने का निर्णय लिया। लेकिन उसी रात मां भगवती ने मंदिर के पुजारी को स्वप्न दिया कि यहां मेरे सिंहासन की ही पूजा करें। उसी में गांव का कल्याण होगा और मनोकाम पूर्ण होगी। जिसके बाद ग्रामीण उस दिन से मां भगवती के सिंहासन की पूजा करने लगे जो अनवरत जारी है।

Share

Check Also

शिक्षिकाओं केलिए एकदिवसीय विधिक जागरूकता प्रशिक्षण शिविर का आयोजन।

दरभंगा: नागरिक सेवा और कानूनी सेवा प्राप्त करना सभी नागरिक का संवैधानिक अधिकार है। सभी जरू…