Home Featured वर्दी पर लगे दाग को निलंबन से धोने की कोशिश: एसएसपी ने फेकला थानाध्यक्ष को किया निलंबित।
3 weeks ago

वर्दी पर लगे दाग को निलंबन से धोने की कोशिश: एसएसपी ने फेकला थानाध्यक्ष को किया निलंबित।

दरभंगा: बिहार में शराबबंदी है और इसे सफल बनाने की सबसे बड़ी जिम्मेवारी पुलिस पर है। पर पुलिस यदि खुद शराब कारोबारियों को संरक्षण देने लग जाए तो यह केवल लापरवाही नहीं, अपराध की श्रेणी में आता है। अपराध केलिए प्राथमिकी दर्ज होती है, और कोर्ट द्वारा सजा निर्धारित की जाती है। पर दरभंगा में पुलिस पर ऐसा आरोप सामने आने के बाद एसएसपी द्वारा वर्दी पर लगे इस दाग को केवल निलंबन की कारवाई से धोने की कोशिश की है।

Advertisement

दरअसल, शराब माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने के आरोप में दरभंगा जिला के फेकला थानाध्यक्ष तृषा सैनी को एसएसपी जगुनाथ रेड्डी ने निलंबित कर दिया है। थानाध्यक्ष की रिपोर्ट पर चौकीदार विष्णुदेव यादव को पहले ही निलंबित किया चुका है।

Advertisement

बताते चलें कि फेकला थाना क्षेत्र के ग्रामीणों के शिकायत के वावजूद थानाध्यक्ष ने थाना क्षेत्र गोढ़िया गांव में शराब बनाकर बेचने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की। इस पर ग्रामीणों ने सोमवार की अहले सुबह शराब की भट्टियों को खुद से ध्वस्त कर दिया था। काफी देर हंगामा के बाद पहुंची फेकला थाना की पुलिस और थानाध्यक्ष को ग्रामीणों की काफी बकझक हुई थी। इस दौरान ग्रामीणों ने पुलिस वालों और महिला थानाध्यक्ष के साथ धक्का मुक्की भी की थी। ग्रामीणों ने पुलिस की मिलीभगत से गांव में खुलेआम शराब के अवैध धंधा करने का आरोप लगाया था।

Advertisement

ग्रामीणों का आरोप है इस धंधे में फेकला थाने का चौकीदार विष्णुदेव यादव की भी संलिप्तता है। इस वजह से थाने की पुलिस ग्रामीणों की शिकायत के बावजूद कार्रवाई से बचती रही। घटना की सूचना मिलते ही एसएसपी जगुनाथ रेड्डी ने इस पूरे मामले की जांच का जिम्मा डीएसपी सदर अमित कुमार को सौंपा था। एससपी ने जांच रिपोर्ट के आधार पर फेकला थानाध्यक्ष तृषा सैनी को निलंबित कर दिया। वहीं इस मामले में चौकीदार विष्णुदेव यादव को भी निलंबित कर दिया गया है।

Share

Check Also

जीतन सहनी हत्याकांड में अभी और खुलेंगे राज, आरोपी को रिमांड पर लेने की तैयारी में पुलिस।

दरभंगा: वीआईपी सुप्रीमो मुकेश सहनी के पिता जीतन सहनी की हत्या मामले में अभी कई राज खुलने ब…