Home Featured प्रेक्षागृह में 112वाँ बिहार दिवस समारोह का हुआ आयोजन।
4 weeks ago

प्रेक्षागृह में 112वाँ बिहार दिवस समारोह का हुआ आयोजन।

दरभंगा: प्रेक्षागृह दरभंगा लहेरियासराय में बिहार दिवस समारोह का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम का उद्घाटन दीप प्रज्ज्वलित कर जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी, दरभंगा राजीव रौशन के कर-कमलों से हुआ।

Advertisement

“जिलाधिकारी महोदय को अपर समाहर्त्ता के द्वारा पाग, चादर एवं पौध प्रदान कर सम्मानित किया गया।

जिला पदाधिकारी के द्वारा ऑडिटोरियम में नीम का पौधा लगाकर पर्यावरण का संदेश दिए। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारियों ,और जिले वासियों को भी आगे जाकर पौधारोपण में अपना सहयोग करना चाहिए। इसे हमारा पर्यावरण शुद्ध और स्वच्छ रहता है।

Advertisement

बिहार दिवस के अवसर पर जिलाधिकारी ने लोकसभा आम निर्वाचन 2024 के अवसर पर स्वीप के लोगों का लोकार्पण किया और अपना सेल्फी पॉइंट में फोटो करायें।उन्होंने कहां की जिलेवासी अपना सत प्रतिशत मतदान करें और जिले को अबल बनाएं । शत प्रतिशत मतदान में अपने महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की अपील कियें।

इस अवसर अपर समाहर्त्ता-सह-अपर जिला दंडाधिकारी नीरज कुमार दास, अपर समाहर्त्ता-सह-जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी अनिल कुमार,अपर समाहर्त्ता (विधि व्यवस्था) राकेश रंजन, उप निदेशक जन-संपर्क सत्येंद्र प्रसाद, जिला भू-अर्जन पदाधिकारी बालेश्वर प्रसाद, स्वीप आइकॉन, दरभंगा मणिकांत झा ने सहयोग प्रदान किया।

जिलाधिकारी ने संबोधित करते हुए कहा कि बिहार दिवस के अवसर पर मिथिलांचल के सभी लोगों का हृदय से स्वागत करते हैं एवं शुभकामनाएं देते हैं।

Advertisement

उन्होंने बिहार के गौरवमय इतिहास से लोगों को अवगत कराया और बताया कि सम्राट अशोक ने बिहार का नाम पूरे विश्व में ऊंचा किया।

उन्होंने कहा कि मिथिला की धरती संस्कृति की धरती रही है, सभ्यता की धरती रही है और परंपरा की धरती रही है।

यहाँ के लोगों ज्ञान विज्ञान के क्षेत्र में, कला के क्षेत्र में, साहित्य के क्षेत्र में, ज्योतिष के क्षेत्र में, संस्कृत के क्षेत्र में और जीवन के जितने भी अंग पक्ष होते हैं,सभी क्षेत्र में विस्तृत योगदान देकर मानवता को,देश को और समाज को नई दिशा दिखलाने का काम किया है।

उन्होंने कहा कि इस अवसर पर हम जब बिहार के गौरव को स्मरण कर रहे हैं,उसे जश्न के रूप में मना रहे हैं, बिहार के नागरिक होने के नाते,हम सब लोग गर्व कर रहे हैं तो निश्चित रूप से मिथिला का अध्याय बहुत ही महत्वपूर्ण हो जाती है।

यहाँ के योगदान को हम लोग कई रंगों में देखते हैं, ऐतिहासिक और पुरातन परंपरा जिसके अतीत में जाएं तो बहुत ही गहराई में जाना होगा।

उन्होंने कहा कि यह राजा जनक की धरती रही है,ऋषि गौतम की धरती रही है और देवी अहिल्या की धरती रही है। एक से बढ़कर एक महापुरुष यहां जन्म लिए हैं और अपने कर्म से पूरी दुनिया में,पूरे राज्य में,पूरे देश में उन्होंने कृति पताखा फहराया है, कृति ध्वज फहराया है,जिसमें आज भी मिथिला की संस्कृति को इतनी मजबूती प्रदान कर रखी है, जहाँ भी मिथिलांचल के लोग हैं,अपनी संस्कृति, अपनी परंपरा और उसकी गौरव को आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं।

उन्होंने लोकसभा आम निर्वाचन 2024 हेतु “हमार मतदान दरभंगाक सम्मान” के लोगो का शुभारंभ किया गया एवं मतदाता जागरूकता हेतु हस्ताक्षर अभियान भी किया गया।

कार्यक्रम में रंगारंग और काफी आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए।

Share

Check Also

पांच दिनों तक प्रचंड लू की संभावना, मौसम विभाग ने जारी की एडवाइजरी।

दरभंगा: 20 से 24 अप्रैल तक लोगों को तेज धूप व लू का सामना करना पड़ेगा। मौसम विभाग ने इसको …