Home Featured गणतंत्र दिवस पर भी नहीं बदला गया अम्बेडकर स्मारक के ऊपर लगा पुराना और फटा झंडा।
4 weeks ago

गणतंत्र दिवस पर भी नहीं बदला गया अम्बेडकर स्मारक के ऊपर लगा पुराना और फटा झंडा।

देखिये वीडियो भी

दरभंगा: राष्ट्रीय ध्वज देश की शान माना जाता है। यह कई क्रांतिकारियों के बलिदान का प्रतीक है। किसी आम व्यक्ति द्वारा भी इसी उपेक्षा नहीं की जा सकती। पर यदि सरकारी कार्यालय परिसर में ही इसे उपेक्षित किया जाए तो निश्चित रूप से जिम्मेवार अधिकारियों पर गंभीर कारवाई आवश्यक हो जाती है।

ऐसा ही कुछ दृश्य इन दिनों दरभंगा जिले के बहादुरपुर प्रखंड मुख्यालय परिसर में देखने को मिला है। प्रखंड कार्यालय परिसर अवस्थित अंबेडकर स्मारक स्थल के छत पर लगा तिरंगा झंडा काफी पुराना है और यह फट भी चुका है। फिर भी आजतक वह यूंही लगा हुआ है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर भी इसे बदला नहीं गया।

Advertisement

गत महीने बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की पुण्यतिथि भी मनाई गई। फिर भी झंडा नही बदला गया। अंबेडकर की उपेक्षा इस परिसर में किस प्रकार की जाती है, इसका उदाहरण हाल ही में सम्पन्न हुए जिला स्थापना दिवस के अवसर पर भी दिखा। इस अवसर पर पूरे प्रखंड मुख्यालय परिसर की साफ सफाई कर जगमग लाइटों से सजाया गया। पर अम्बेडकर स्मारक स्थल को इस दौरान भी उपेक्षित रखा गया।

शुक्रवार को 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रखंड मुख्यालय परिसर में झंडोत्तोलन किया गया। इस दौरान सभी अधिकारी और जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। झंडा फहराने वाले स्थल के सामने स्मारक स्थल होने के वाबजूद यह झंडा किसी को दिखाई न दिया हो, ऐसा संभव प्रतीत नहीं होता। गणतंत्र दिवस के पूर्व परिसर की साफ सफाई एवं रंग रौग़न के दौरान भी इसपर किसी की नजर नहीं गयी, यह भी आश्चर्यजनक है।

Advertisement

कुलमिलाकर कहा जाय तो अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों के नजर अथवा संज्ञान में राष्ट्रीय ध्वज की यह उपेक्षा न हो, ऐसा संभव प्रतीत नहीं होता। ऐसे में देखने वाली बात होगी कि इस गंभीर उपेक्षा केलिए जिम्मेवार अधिकारियों पर प्राथमिकी दर्ज कर सुसंगत धाराओं में कारवाई होती है अथवा आम मामलों की तरह इस गंभीर मामले की भी लीपापोती ही की जाती है।

Advertisement
Share

Check Also

पोलो मैदान में देर रात तक मिथिला के गीत-संगीत एवं संस्कृति की बहती रही रसधार।

दरभंगा: दरभंगा महोत्सव के पांचवें संस्करण का शनिवार को सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ समापन ह…